भारत की होड़ करने चला था चीन, फुस्स हुआ रॉकेट प्रक्षेपण


नई दिल्ली (3 जुलाई): भले ही चीन ऑर्मी और हथियारों के मामले में भारत से आगे है, लेकिन ऐसी भी कई चीजें हैं जिनके सामने ड्रैगन कहीं नहीं टिकता। हाल ही में चीन भारी मालवाहक रॉकेट लांग मार्च-वाई2 लॉन्च किया जोकि उपग्रह को कक्षा में स्थापित करने में नाकाम रहा।


सरकारी समाचार एजेंसी के मुताबिक दक्षिणी प्रांत हैनान में वेनचांग अंतरिक्ष प्रक्षेपण कें से शाम स्थानीय समयानुसार सात बजकर 23 मिनट पर रॉकेट की उड़ान के दौरान अनियमितता का पता चला। इसमें कहा गया है कि आगे जांच की जाएगी।


प्रक्षेपण का जीवंत प्रसारण किया गया। शुरूआत में इसे सफल माना गया, क्योंकि रॉकेट बिना किसी दिक्कत के प्रक्षेपित हुआ। बाद में शिन्हुआ ने खबर दी की रॉकेट प्रक्षेपण नाकाम रहा। लांग मार्च-5 को पहली बार वेनचांग से नवंबर 2016 में प्रक्षेपित किया गया। रॉकेट शिजियान-18 को लेकर गया।


इस साल के उत्तरार्ध में चांग-5 चं अभियान पर रवाना किए जाने से पहले लांग मार्च-5 श्रृंखला के लिए यह अंतिम प्रक्षेपण अभियान था। खबर में बताया गया था कि 7.5 टन वजनी शिजियान-18 चीन का नवीनतम तकनीकी प्रयोग उपग्रह है और अंतरिक्ष के लिए चीन ने अब तक का सबसे वजनी उपग्रह प्रक्षेपित किया है।