पनामा गेट फैसले के बाद...पाकिस्तान टूटा तो कंगाल हो जायेगा चीन !

ऩई दिल्ली (29 जुलाई): पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के अपमानजनक  इस्तीफे से चीन में भी भारी बेचैनी और व्याकुलता है। चीन को डर है कि पाकिस्तान में फिर से अस्थिरता गहरा सकती है। जिससे उसके 51 बिलियन डॉलर के सीपेक प्रोजेक्ट को झटका न लग सकता है। चीन को इससे पहले ग्रे राइनोज आर्थिक कंगाली के कागर पर लाकर खड़ा कर चुके हैं। इसके बाद अगर पाकिस्तान में अस्थिरता आयी तो उसके 51 बिलियन डॉलर का प्रोजेक्ट भी डूब जाय़ेगा।

ऐसा हुआ तो चीन की अर्थ व्यवस्था ताश के पत्तों की तरह ढह जायेगी। इसी डर के मारे चीन ने कहा है कि पाकिस्तान में कोई भी सरकार रहे वो उसके साथ सहयोग करेगा। ऐसे बयान तभी आते हैं जब कोई संकट आसन्न हो या जब दूसरे पक्ष के साथ काम करने में आशंका हो। चीन की चिंता विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू कॉंग के उस बयान में झलकती है जिसमें उन्होंने पाकिस्तान के राजनीतिक दलों और अन्य वर्गों से मौजूदा परिस्थितियों में एकता और स्थिरता बनाये रखने की उम्मीद जाहिर की है। लू कॉंग ने मीडिया संबोधन से स्पष्ट होता है कि नवाज शरीफ के इस्तीफे के बाद पाकिस्तान में अलगाव और अस्थिरता और अधिक गहरी होने वाली है।