21 साल बाद फुटबॉल के मैदान पर होगी भारत और चीन की जंग

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली ( 12 अक्टूबर ): भारतीय फुटबॉल टीम 21 साल के बाद शनिवार को चीन के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय मैत्री मैच खेलेगी जिसमें हाल की खराब फॉर्म के बावजूद घरेलू टीम जीत की प्रबल दावेदार होगी। भारतीय फुटबॉल टीम के कप्तान सुनील छेत्री ने कहा कि शनिवार को चीन के खिलाफ 21 साल बाद होने वाले अंतरराष्ट्रीय मैच में टीम का रक्षात्मक होना सबसे अहम होगा। 

छेत्री ने कहा, 'हमें काफी बेहतरीन डिफेंस करना होगा। मुझे यह महसूस हो रहा है कि हमें काफी रक्षात्मक होना होगा। हम उन्हें काफी खाली जगह नहीं दे सकते। और जब भी हमें थोड़ा सा भी मौका मिलेगा, हमें इसका फायदा उठाकर हमला बोलना होगा। इस मैच में हमें हर विभाग में अपने खेल में शीर्ष पर रहना होगा। अगर हम अच्छा संयोजन नहीं कर पाए और एकजुट नहीं हो पाए तो हमें काफी जूझना पड़ेगा।' वहीं भारतीय फुटबॉल टीम के डिफेंडर अनस एडाथोडिका का कहना है कि चीन को उनके घरेलू दर्शकों के सामने हराना मुश्किल है लेकिन नामुमकिन नहीं।  

छेत्री ने कहा, 'भारत ने घरेलू मैदान के बाहर इतना बढ़िया प्रदर्शन नहीं किया है लेकिन अब रिकॉर्ड को बेहतर करने का समय आ गया है। अब ऐसा करने का समय आ गया है। मैं उम्मीद कर रहा हूं कि खिलाड़ी इस मौके का फायदा उठाएंगे और अच्छा नतीजा हासिल करेंगे। हमें खुद को कहना होगा कि हम सुधार कर रहे हैं। 

जनवरी में हमारे सामने कड़ी चुनौती सामने होगी और हमें उसके लिए तैयार रहना होगा। मैं खुश हूं कि हम चीन जैसी टीम के खिलाफ खेल रह हैं। लेकिन यह थोड़ा अचरज भरा है कि हम इतने लंबे समय बाद उनसे खेल रहे हैं। हमें उनसे खेलते रहना चाहिए। मैं इस मुकाबले के लिए काफी उत्साहित भी हूं कि उनकी टीम काफी मजबूत है और एशिया की सम्मानजनक टीम रही है।' 

अनस ने कहा, 'चीन के खिलाफ उनके घरेलू मैदान पर खेलना बहुत मुश्किल होगा लेकिन जीत दर्ज करना नामुमकिन नहीं है। हमने लगातार 13 मैचों तक हार नहीं झेली है, जिसमें हाल मे हमने नौ मैच जीते हैं और यह टीम की कड़ी मेहनत को दशार्ता है। कोच स्टीफन कांस्टेनटाइन ने युवा खिलाड़ियों को प्रोत्साहित किया है और खिलाड़ियों ने भी उसका जल्द जवाब दिया। भारतीय फुटबॉल में अभी सब अच्छा महसूस कर रहे हैं और इससे टीम में सकारात्मक भाव फैलता है।' भारत एशियन कप की तैयारियों के रूप में शनिवार को चीन के खिलाफ दोस्ताना मुकाबला खेलेगा। दोनों देशो ने 17 बार एक-दूसरे का सामना किया है जिसमें 12 बार चीन ने जीत दर्ज की है। फीफा रैंकिंग में चीन 76वें और भारत 97वें स्थान पर है।