सरकार के नाकाम होने पर ही ज्यूडिशरी दखल देती है- मुख्य न्यायाधीश

नई दिल्ली (7 जून): न्यायपालिका पर बढ़ते बोझ की बात करते हुए भावुक होने वाले देश के मुख्य न्यायाधीश ने बहुत बड़ा बयान दिया है। CJI ने कहा कि अगर सरकार के नाकाम होने पर ही ज्यूडिशरी दखल देती है।

मुख्य न्यायाधीश का ये बयान इसलिए भी अहम है क्योंकि न्यूज24 के कॉन्कलेव में बातचीत के दौरान वित्त मंत्री अदालत को लक्ष्मण रेखा में रहने की बात कही थी। ऐसे में CJI का जवाब काफी कुछ कहता है।

सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस तीर्थ सिंह ठाकुबार र ने एक फिर केंद्र सरकार के कामकाज पर निशाना साधा है। तीर्थ सिंह ठाकुर ने कहा है कि हम मजबूरी में सरकार के काम में देखल देते हैं। काम संविधान के मुताबिक न हो तो दखल देना पड़ता है। कोर्ट नहीं चाहती कि सरकार का काम टेकओवर करे। जो काम किए जाने चाहिएं वो नहीं हो रहे हैं। सरकार सही काम करे तो हम दखल नहीं देंगे। कोई इसे गलत समझता है तो ये उसका परसेप्शन है।

टी एस ठाकुर ने एक निजी चैनल को दिए इंटरव्यू में ये बात कही है। इससे पहले भी वो सरकार के कामकाज को लेकर सवाल उठाते रहे हैं।