Blog single photo

पूर्व वित्‍त मंत्री पी चिदंबरम ने किया किया ट्वीट, GDP विकास दर के नतीजे और बदतर होंगे

रकार की ओर से दूसरी तिमाही के जीडीपी GDP आंकड़े शुक्रवार को जारी किए गए। मौजूदा वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही यानी जुलाई-सितंबर तिमाही में जीडीपी ग्रोथ रेट गिरकर 4.5 प्रतिशत पर आ गई है।

P Chidambaram

न्यूज 24 ब्यूरो, मुंबई (1 दिसंबर):  सरकार की ओर से दूसरी तिमाही के जीडीपी GDP आंकड़े शुक्रवार को जारी किए गए। मौजूदा वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही यानी जुलाई-सितंबर तिमाही में जीडीपी ग्रोथ रेट गिरकर 4.5 प्रतिशत पर आ गई है। इन आकंड़ों के पेश होने के बाद सरकार पर विपक्षी दल लगातार निशाना साध रहा है। उन्होंने शनिवार को कहा कि दूसरी तिमाही में जीडीपी विकास दर 4.5 फीसदी रहने की पहले से थी, लेकिन तीसरे तिमाही के नतीजे और बदतर हो गए है। पहले से ही सुस्ती झेल रही देश की अर्थव्यवस्था की विकास दर दूसरी तिमाही में गिरक 4.5 फीसदी पर आ गई, जो छह साल का निचला स्तर है। इसके अलावा, अक्टूबर महीने में 8 कोर सेक्टरों का इंडस्ट्रियल ग्रोथ -5.8 प्रतिशत रही है।

राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसओ) द्वारा शुक्रवार को जारी जीडीपी आंकड़ों के अनुसार चालू वित्त वर्ष 2019-20 की जुलाई-सितंबर के दौरान स्थिर मूल्य (2011-12) पर जीडीपी 35.99 लाख करोड़ रुपये रही, जो पिछले साल इसी अवधि में 34.43 लाख करोड़ रुपये थी। इसी तरह दूसरी तिमाही में आर्थिक वृद्धि दर 4.5 प्रतिशत रही।

चिदंबरम के परिवार ने उनके बदले एक ट्वीट पोस्‍ट किया जिसमें कहा गया है, 'जैसा कि सबका अनुमान था, दूसरी तिमाही में जीडीपी ग्रोथ घटकर 4.5 फीसद के निचले स्‍तर पर आ गई। इसके बावजूद सरकार कहती है कि 'सब ठीक है'। तीसरी तिमाही में भी जीडीपी ग्रोथ रेट 4.5 फीसद से अधिक नहीं रहेगी और संभावना इस बात की है यह इससे भी कम रहे।' 

पूर्व वित्‍त मंत्री पी चिदंबरम, जो अभी भ्रष्‍टाचार और मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में जेल में हैं, उन्‍होंने ट्वीट कर कहा कि झारखंड की जनता को भाजपा के विरुद्ध मतदान करना चाहिए और इस प्रकार उसकी नीतियों का विरोध दर्ज कराना चाहिए। उन्‍हें इसका अवसर मिला है। 

यह भी पढ़े - बेरोजगारी की मार: सफाईकर्मी के 549 पदों के लिए 7000 इंजीनियर और ग्रेजुएट ने किया आवेदन

Tags :

NEXT STORY
Top