बजट दिशाहीन, नोटबंदी से बढ़ा भ्रष्‍टाचार: चिदंबरम

नई दिल्ली (9 फरवरी): पूर्व वित्त मंत्री और वरिष्‍ठ कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने बजट और नोदबंदी के फैसले को लेकर सरकार पर जोरदार हमला किया। चिदंबरम का सरकार पर आरोप लगाया कि बजट में उसने रक्षा से लेकर शिक्षा और मिड-डे मिल का आवंटन घटाया है।

चिदंबरम ने कहा कि सरकार ने फर्टिलाईजर, फूड और फ्यूल पर सब्सिडी भी घटा दी।  अगर सरकार खर्च कम करेगी तो फिर अर्थव्यवस्था कैसे आगे बढ़ेगी।

- चेन्नई में जलिकट्टू आंदोलन में मरीना बीच पर जो युवा इकठ्ठा हुए क्योंकि नौकरी नहीं है। वो इसके जरिए अपना रोष प्रकट कर रहे थे।

- सरकार ने 2015-16 में केवल डेढ़ लाख नौकरी जेनरेट की और मौजूदा साल में नौकरी और घटेगी।

- सरकार के पास नौकरी बढ़ाने को लेकर कोई रणनीति नहीं है।

- आरबीआई ने ब्याज दरें नहीं घटाई, क्योंकि आरबीआई को सरकार के आंकडो पर यकिन नहीं है।

- ब्याज दर नहीं घटी तो निवेश कहां से आएगी, नौकरी कैसे मिलेगी।

- बजट में इनडायरेक्ट टैक्स को नहीं घटाया, जिसके घटाने से अर्थव्यवस्था को फायदा होता।

- एमएसएमई के लिए कॉरपोरेट टैक्स घटाने से कोई बड़ा फायदा नहीं मिलेगा।

- अभी भी देश में एटीएम काम नहीं कर रहे उनमें कैश नहीं है।

- सरकार बताए कैसे छापों के बाद लोगों के पास से नए 2000 नोट मिले।

- नोटबंदी साल 2016 का सबसे बड़ा घोटाला है।

- नोटबंदी के पास करप्शन बढ़ा है।

- 15 करोड़ रोज कमाने खाने वाले मिलाकर कुल 40 करोड़ लोग नोटबंदी से प्रभावित हुए है।

- आरबीआई के पास कितना पुराना नोट आया क्यों नहीं बता रही।

- दरअसल सारा पैसा वापस आरबीआई में आ चुका है।

- ये ऐसे है जैसे खोदा पहाड़ निकली चूहिया।

- आप डिजिटल इकॉनामी बनाना चाह रहे, उससे लोगों की प्राईवेसी भंग हो रही।

- जो लड़कियां lingerie खरीदती है, वो क्यों डिटिकल पेमेंट कर अपनी शॉपिंग की जानकारी दें। कोई कपल प्राइवेट हॉलिडे में जाने की जानकारी आपको क्यों दे।

- ये बजट दिशाहीन है इससे ना देश का विकास होगा ना लोगो को नौकरी मिलेगी।