झोपड़ी में चलता है यह बैंक, टर्नओवर करोड़ों में

दुर्ग(3 फरवरी):आपको जानकर हैरानी होगी कि देश में एक ऐसा भी बैंक है जो झोपड़ी में चल रहा है। इससे भी बड़ी बात यह है कि इसका टर्न ओवर 22 करोड़ रुपये का है।

- ये बैंक है छत्तीसगढ़ के दुर्ग ज़िले में ज़िला मुख्यालय से महज़ 10 कदम की दूरी पर। यहां मुश्किल से 20 बाई 10 फ़ीट का एक कमरा है। जिसमें बारिश के दिनों में पानी भी टपकता है हालांकि इससे बचने के इंतज़ाम भी ठीक घरेलू ही हैं।

-इस 22 करोड़ी बैंक के साइन बोर्ड को देखकर आपको और भी ज़्यादा हैरानी होगी। ठीक ऐसा जैसे कोई गुमटी लगी हो। लेकिन सहकारिता विभाग से संबंधित ये बैंक अल्प संख्यक और निम्न वर्ग के लिए बहुत ही अहम है।

- इस बैंक से बहुत ही कम ब्याज पर फुटपाथ पर कारोबार करने वालों को लोन मिलता है जिसके लिए उन्हें सिर्फ़ एड्रेस प्रूफ और 3 गारंटर लगते हैं। जबकि उन्हें पैसे जमा करने बैंक तक भी नहीं आना पड़ता, क्योंकि बैंक के कर्मचारी उनके पास जा-जाकर पैसे वसूल कर लेते हैं।

-इस छोटे से बैंक में क़रीब 800 चालू खाते हैं, 500 लोन वाले खाते हैं। यानि व्यवस्था के नाम पर इस बैंक के पास कुछ नहीं है।

- 19 साल पहले इस बैंक की शुरुआत महज़ 18 हज़ार रुपये से हुई थी।