प्रात: कालीन अर्घ्य के साथ छठ महापर्व का समापन

नई दिल्ली ( 7 नवंबर ) : लोक आस्था के महापर्व छठ के अंतिम दिन आज सुबह उगते सूर्य को अर्घ्य दिया गया। इसके साथ ही चार दिवसीय छठ महापर्व का समापन हो गया। प्रात:कालीन अर्घ्य के बाद व्रती घरों की ओर लौट गए हैं। नहाय-खाय से आरंभ चार दिवसीय छठ महापर्व का आज अंतिम दिन था। इसके पहले रविवार को व्रतियों ने डूबते सूर्य को अर्घ्य दिया।

छठ घाटों पर व्रतियों के जाने का सिलसिला सुबह तीन बजे से ही शुरु हो चुका था। खासकर मनोकामना पूरी होने पर दंड लगाते हुए घाटों पर जाने वाले व्रती पहले पहुंचे। 

आज के अर्घ्य के पहले व्रतियों ने घरों व घाटों पर कोसी भरा। कोसी पूजा सांध्यकालीय अर्ध्य के बाद व सुबह के अर्घ्य के पहले रात में की जाती है। पूरे सूबे में सूर्योदय के पूर्व कोशी भर कर दीप जलाने वाले लाखों व्रतियों के साथ उनके परिजन भी रात में घाटों पर डटे रहे।