सुरेश रैना ने रचा इतिहास, IPL में ये कारनाम करने वाले बने पहले बल्लेबाज

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (23 मार्च): आईपीएल के 12वें सीजन में खेले जा रहे पहले मुकाबले में चेन्नई सुपर किंग्स ने बेंगलुरु को 7 विकेट से हरा दिया है। कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला किया और रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु को पहले बल्लेबाजी का न्योता दिया। जवाब में कोहली की टीम 17.1 ओवर में आरसीबी 70 रन पर ऑल आउट हो गई। इसके जवाब में चेन्नई की टीम ने 17.4 ओवर में 71 रन बनाकर ये लक्ष्य हासिल कर लिया। इस मुकाबले में सुरेश रैना ने 19 रनों की पारी खेली लेकिन 15 रन बनाते ही आईपीएल में एक बड़ा कीर्तिमान अपने नाम दर्ज करवा लिया है।

दरअसल, सुरेश रैना ने आईपीएल के इतिहास (2008-2019) में सबसे पहले 5,000 रनों का आंकड़ा छू लिया है। सुरेश रैना ने आईपीएल में सर्वाधिक 173 पारियां खेलकर 34.43 की औसत से 5000* रन बना लिए हैं, जिसमें एक शतक और 35 अर्धशतक शामिल हैं। इस दौरान उनका बेस्ट स्कोर नाबाद 100 रन रहा।


IPL के इतिहास में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज

1. सुरेश रैना (चेन्नई सुपर किंग्स, गुजरात लॉयंस) -  173 पारी, 5000* रन, 1 शतक, 35 अर्धशतक

2. विराट कोहली (रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु) -  156 पारी, 4954 रन, 4 शतक, 34 अर्धशतक

3. रोहित शर्मा (डेक्कन चार्जर्स, मुंबई इंडियंस) -  168 पारी, 4493 रन, 1 शतक, 34 अर्धशतक

4. गौतम गंभीर (कोलकाता नाइट राइडर्स, दिल्ली डेयरडेविल्स) -  152 पारी, 4217 रन, 36 अर्धशतक


इससे पहले चेन्नई ने टॉस जीतकर आरसीबी के पहले बल्लेबाजी का न्यौता दिया। चेन्नई के गेंदबाजों ने अपने कप्तान के फैसले पर खरा उतरते हुए आरसीबी को 17.1 ओवर में 70 रन पर ढेर कर दिया। चेन्नई के खिलाफ किसी भी टीम का यह न्यूनतम स्कोर है। वहीं, आईपीएल के इतिहास में यह छठा न्यूनतम स्कोर है। बैंगलोर का लीग में यह दूसरा न्यूनतम स्कोर है। लीग में बेंगलोर का न्यूनतम स्कोर 49 रन है, जो उसने 2017 में कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) के खिलाफ बनाया था। 

आरसीबी की खस्ता हालत का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि उसके छह विकेट 50 रन के कुल स्कोर पर ही पवेलियन लौट गए। आरसीबी के लिए सबसे अधिक रन सलामी बल्लेबाज पार्थिव पटेल ने बनाए। उन्होंने 33 गेंदों में 2 चौकों की मदद से 29 रन की पारी खेली। पटेल ने अंत तक एक छोर संभाले रखा। लेकिन दूसरे छोर पर विकेटों के लगातार गिरने की वजह से वह कुछ खास नहीं कर सके। उनके अलावा बैंगलोर का और कोई बल्लेबाज दहाई के आंकड़े को नहीं छू सका।