'कौन बनेगा करोड़पति' में हिस्सा लेना इस डिप्टी कलेक्टर को पड़ा भारी

नई दिल्ली(12 सितंबर): छत्तीसगढ़ के मुंगेली जिले में तैनात ट्रेनी डिप्टी कलेक्टर को 'कौन बनेगा करोड़पति' में हिस्सा लेना भारी पड़ गया। राज्य के सीएम रमन सिंह को भी इस मामले में हस्तक्षेप करना पड़ा। 

- ट्रेनी डिप्टी कलेक्टर अनुराधा अग्रवाल दिव्यांग हैं। 

- अनुराधा इस रकम से अपने भाई का इलाज कराना चाहती थीं, जो किडनी की बीमारी से पीड़ित है। हालांकि सीएम के हस्तक्षेप के बाद उनके कार्यक्रम में हिस्सा लेने संबंधी औपचारिकताएं पूरी की गईं।

- बताया जा रहा है कि अनुराधा केबीसी में 15 लाख रुपये की रकम जीत चुकी थीं। इसके बाद जब वह वापस अपने घर आईं तो उन्हें पता चला कि राज्य सरकार ने उन्हें इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने की अनुमति नहीं दी थी। 

- अनुराधा ने कहा कि मैंने कलेक्टर और संभागायुक्त के जरिए राज्य सरकार से अनुमति मांगी थी। समय पर अनुमति का पत्र नहीं मिला तो कलेक्टर से छुट्टी लेकर कार्यक्रम में हिस्सा लेने मुंबई चली गई।

- जब अनुराधा मुंबई से वापस आईं तो उन्हें पता चला कि सामान्य प्रशासन विभाग के उपसचिव ने पत्र लिखकर उन्हें कार्यक्रम में भाग लेने संबंधी उनके आवेदन को अमान्य कर दिया है। 

- राज्य के एक सीनियर अफसर के अनुसार, सीएम रमन सिंह ने अफसरों को इस संबंध में दिशा निर्देश जारी किए, उसके बाद अनुराधा के इस शो में शामिल होने की इजाजत संबंधी औपचारिकताएं पूरी हो पाईं।