NEWS24 मंथन छत्तीसगढ़ में बोले सीएम रमन सिंह- भ्रष्टाचारियों पर होती है सख्त कार्रवाई

नई दिल्ली(11 दिसंबर): हर हिंदुस्तानी का चैनल न्यूज 24 छत्तीसगढ़ में सबसे बड़ा शो मंथन का आयोजन कर रहा है। दिनभर चलने वाले इस कार्यक्रम के पहले सत्र में प्रदेश के सीएम रमन सिंह पहुंचे। रमन सिंह ने इस दौरान अपनी सरकार के 14 साल की उपलब्धियां गिनाईं। 

न्यूज 24 की एडिटर-इन चीफ ने रमन सिंह से कई कड़े सवाल पूछे। सवाल-जवाब का दौर शुरु होने से पहले रमन सिंह को अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाने का मौका दिया गया। इस दौरान उन्होंने राज्य में भष्ट्राचार पर कार्रवाई, नक्सल, प्रदूषण, राज्य में विकास जैसे मुद्दों पर अपनी बात रखी। 

रमन सिंह ने क्या-क्या कहा...

जहां से भी करप्शन की कोई खबर आती है, उसपर उचित कार्रवाई की जाती है  

नक्सलियों को जनता का साथ मिलना कम हुआ है। बस्तर में हमने विकास किया है तो वहां पर नक्सली पीछे हटे 

जितने भी छत्तीसगढ़ के संस्थागत काम हुए है, वहां पर कोई भ्रष्‍टाचार नहीं है। लाखों भर्तियों में कोई करप्शन नहीं हुआ

गुजरात में बीजेपी की सरकार बनेगी और वहां के नतीजों का असर देश पर भी पड़ेगा

बहुत लोगों की रैलियों में भीड़ होती है। एक बड़े नेता की रैली में बहुत भीड़ होती थी, लेकिन जब चुनाव लड़ा तो जमानत जब्त हो गई

2 घंटे की सीडी में 18 मिनट का वीडियो दूसरी वेबसाइट से उठाकर दिखा दी। अपने आप को पत्रकार बनताने वाला वह शख्स दिल्ली में बैठकर कैसे काम कर रहा था, इसका खुलासा हो गया

छत्तीसगढ़ में कभी भी चुनाव होंगे तो यहां पर सिर्फ विकास का मुद्दा ही होगा

आज नक्सली इलाकों के बच्चे देश के बेहतरीन उच्च शिक्षा संस्थानों में जा रहे हैं, यहीं हमारे प्रदेश का विकास है और हम नक्सली इलाकों में शांति लाने में कामयाब होंगे

दबाव बढ़ने से नक्सली सरेंडर करके मुख्यधारा में आ रहे हैं। नक्सली इलाकों में शिक्षा का स्तर बढ़ा है

नक्सलियों को जनता का साथ मिलना कम हुआ है। बस्तर में हमने विकास किया है तो वहां पर नक्सली पीछे हटे हैं

नक्सल समस्या का जन्म लोगों को नहीं मिलने वाली सुविधा से हुआ, लेकिन आज बस्तर में लोगों को पता चल रहा है कि हमें बंधक बनाया हुआ था। आज वहां पर विकास के काम हो रहे हैं। वहां पर सड़कों का जाल बिछाया गया है

नोटबंदी से आतंकवाद और नक्सलवाद दोनों में कमी आई है। बेनामी खाते और दूसरे तरह से जो ट्रांसफर होता था, वो कम हुआ

मोदी जी बहुत बड़े नेता है। उनसे काफी कुछ सीखा और सीखना है। छत्तीसगढ़ के जन्मदाता अटल जी हैं और उन्हीं की विचारधारा को हम मानते है

योगी जी ने यूपी की हालत को सुधारा। हमारी पार्टी में जिसकी जहां पर उपयोगिता है, वहां पर उसका प्रयोग होता है

मैं किसी से दुश्मनी नहीं करता। राजनीति में सबको साथ लेकर चलना चाहिए। पक्ष और विपक्ष दोनों की अपनी-अपनी भूमिका है

आने वाले चुनावों में छत्तीसगढ़ में त्रिकोणीय स्थिति बन सकती है 

मेरी प्राथमिकता दिल्ली नहीं बल्कि छत्तीसगढ़ है

2018 में होने वाले प्रदेश चुनावों के लिए हम 2003 से अभी तक का सारा काम रखेंगे और अगली पांच सालों की योजनाओं के बारे में जनता को बताएंगे 

मोदी जी ने भी छत्तीसगढ़ के विकास के कामों को सराहा है

योगी जी ने यूपी की हालत को सुधारा। हमारी पार्टी में जिसकी जहां पर उपयोगिता है, वहां पर उसका प्रयोग होता है

भारत में कहीं ऐसी जगह नहीं होगी, जहां पर सड़क बनाते समय गोली मार दी जाती है। दिल्ली में बैठकर यहां के बारे में सोचा भी नहीं जाता

आज देश में विकास के नाम पर चुनाव जीते जा रहे हैं। मोदी जी देश ही नहीं दुनिया में विकास के मॉडल है 

विकास में गुजरात देश का मॉडल है, लेकिन छत्तीसगढ़ में भी काम हुआ है। यहां पर करीब 32 फीसदी आदिवासी हैं 

भारत में कहीं ऐसी जगह नहीं होगी, जहां पर सड़क बनाते समय गोली मार दी जाती है। दिल्ली में बैठकर यहां के बारे में सोचा भी नहीं जाता -

मीडिया में हम कम दिखाए जाते हैं। हमारी आवाज दिल्ली तक नहीं पहुंचती 

बी‍जापुर में पहले डॉक्टर नहीं जाते थे और वहां पर आज 23 डॉक्टर काम कर रहे हैं। वहां पर 300 सर्जरी महीने में होती है

कुपोषण की समस्या में कमी आई है। इसके लिए सरकार ने विभिन्न योजनाओं पर काम किया है

नक्सल समस्या से भी ज्यादा छत्तीसगढ़ की दूसरी चुनौतियां बड़ी थी। यहां पर गरीबी और कुपोषण की लड़ाई सबसे बड़ी थी

आज लोगों को आर्थिक मदद और ट्रेनिंग देकर कम पढ़े लिखे लोगों को रोजगार देने का काम कर रहे हैं 

रोजगार के लिए स्कूल और कॉलेज की शिक्षा पर्याप्त नहीं है। जो स्कूल नहीं गए उनके लिए भी रोजगार चाहिए

हिंदुस्तान में कोई राज्य छत्तीसगढ़ से बेहतर मॉडल तैयार नहीं कर सकता

आज हम किसी बड़े कदम को उठाने से डरते नहीं, हम करते हैं

छत्तीसगढ़ में 2003 में 1600 किमी ग्रामीण सड़क थे आज 21000 किलोमीटर सड़क 

आज 21 फीसदी बच्चे उच्च शिक्षा में जा रहे हैं

2003 में हमारे यहां पर 21690 स्कूल थे जो आज बढ़कर 65 हजार हो गए हैं

शिक्षा के स्तर को सुधारा और आज सिर्फ एक फीसदी बच्चे की स्कूल छोड़ते हैं, जबकि पहले यह आंकड़ा 11 प्रतिशत था

7500 करोड़ से आज बजट 80-85 हजार करोड़ हो गया है 

ग्रामीण क्षेत्र में बिजली की खप्त को बढ़ाने का काम किया है