गैर बीजेपी और गैर कांग्रेस के तीसरा मोर्चा बनाएंगे चंद्रशेखर राव और ममता बनर्जी

नई दिल्ली (19 मार्च): मोदी सरकार को चुनौती देने के लिए कई विपक्षी दल एकजुट होते हुए तीसरे मोर्चे की कवायद में जुटे हैं। इसी कड़ी में तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव (केसीआर) सोमवार को तृणमूल कांग्रेस प्रमुख व पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मुलाकात की।

West Bengal: Telangana CM K Chandrashekar Rao met West Bengal CM Mamata Banerjee in Kolkata. pic.twitter.com/YOI1K1jxWs

— ANI (@ANI) March 19, 2018

ममता से मिलने के बाद केसीआर ने कहा कि देश में एक गैरबीजेपी-गैरकांग्रेस फेडरल फ्रंट आकार ले रहा है। 'थर्ड फ्रंट' की आहट निश्चित तौर पर कांग्रेस और उसकी सहयोगी अन्य विपक्षी दलों की उन कोशिशों के लिए झटके की तरह है, जो 2019 में एनडीए के खिलाफ विपक्षी दलों के 'महागठबंधन' के पैरोकार हैं।

थर्ड फ्रंट को लेकर केसीआर ने कहा, 'लोग सोच रहे हैं कि 2019 से पहले एक तीसरा फ्रंट भी तैयार होगा। मैं स्पष्ट करना चाहता हूं कि यह फ्रंट देश की जनता के लिए होगा। यह महज कुछ राजनीतिक पार्टियों का गठबंधन नहीं होगा, यह जनता के लिए होगा। अब एक विकल्प की जरूरत है।' उन्होंने कहा, 'आप घिसे-पिटे राजनीतिक मॉडल के बारे में सोचते रहे हैं। हम जो अजेंडा लेकर आए हैं वह इससे बिल्कुल अलग है। यह जनता का अजेंडा है।' 

ममता ने कहा, 'राजनीति आपको ऐसी स्थिति में डालती है जहां आपको अलग-अलग लोगों के साथ काम करना पड़ता है। मैं राजनीति में विश्वास रखती हूं।' वहीं, राष्ट्रीय राजनीति में खुद को मजबूत दावेदार के रूप में पेश करने की चाहत रखने वाले के. चंद्रशेखर राव ने इसे सामूहिक नेतृत्व बताया। राव ने कहा, 'यह एक सामूहिक और संघीय नेतृत्व होगा जिसमें सभी साथ होंगे।'