नोटबंदी के बाद चंडीगढ़ नगर निगम चुनाव में बीजेपी की एकतरफा जीत

चंड़ीगढ़ (20 दिसंबर): नोटबंदी के बाद भले ही लोग कैश की दिक्कत का सामना कर रहे हो और एटीएम के बाहर लंबी कतारे लगी हुई हो, लेकिन पंजाब के चंडीगढ़ में नगर निगम चुनावों में बीजेपी ने बड़ी जीत हासिल की है।

यहां पर बीजेपी-अकाली दल गठबंधन ने पूर्ण बहुमत हासिल करते हुए 26 में से 21 सीटें अपने नाम कर कांग्रेस को करारा झटका दिया। कांग्रेस 4 सीटों पर ही जीत हासिल कर पाई। अकाली दल को एक और निर्दलीय को एक सीट मिली। बीजेपी की तरफ से जीत हासिल करने वालों में प्रमुख नाम बीजेपी मेयर अरुण सूद का भी है। वार्ड नं 4 से बीजेपी की सुनीता धवन जीतीं। उन्होंने पूर्व मेयर और चंडीगढ़ कांग्रेस की सीनियर लीडर पूनम शर्मा को हराया।

कुल 122 उम्मीदवार मैदान में थे। मुख्य मुकाबला बीजेपी और कांग्रेस के बीच ही था। कांग्रेस और भाजपा ने सभी 26 वार्डों पर उम्मीदवार उतारे थे, जबकि बसपा ने 17 वार्डों में अपने उम्मीदवार को उतारा। इसके अलावा 67 निर्दलीय उम्मीदवार भी मैदान में थे।

इस जीत पर चंडीगढ़ से बीजेपी सांसद किरन खेर ने कहा कि जनता हमारे काम से खुश है। हमने पीएम मोदी की योजनाओं को अमली जामा पहनाया और लोग इससे खुश हैं। लोगों ने महसूस किया कि नोटबंदी की कवायद देश की बेहतरी के लिए है।