#oddeven: खुफिया कैमरे से हो रही गाड़ियों की निगरानी

नई दिल्ली (4 जनवरी): दिल्ली में बे-कार फॉर्मूले का आज चौथा दिन है। इस फॉर्मूले के असली इम्तिहान का दिन है, क्योंकि बीते दिनों आंशिक तौर पर दिल्ली में छुट्टी थी। आज सारे दफ्तर खुल गए हैं और आज सबसे ज्यादा गाडियों का दबाव दिल्ली की सड़कों पर पड़ने वाला है।

आज सड़कों पर दौड़ेगी सिर्फ ईवन नंबर की गाड़ियां दिल्ली की सड़कों पर ऑड ईवन फॉर्मूले का आज चौथा और अहम दिन है। फॉर्मूले के हिसाब से आज ईवन नंबर की गाड़ियां सड़कों पर दौड़ेंगी। यानि (हाईलाइट नंबर ) 0,2,4,6,8 नंबर की गड़ियां सुबह आठ बजे से रात आठ बजे तक दिल्ली की सड़कों पर चलनेवाली हैं। आज से पहले जो हुआ वो तो बस एक ट्रेलर था आज असली इम्त्हान है। क्योंकि पिछले तीन दिनों तक दिल्ली की आधी आबादी छुट्टियों में मशगूल थी।

दिल्ली सरकार का दावा है कि इस चुनौती का सामना करने के लिए खाका तैयार कर लिया गया है। अगर ट्रैफिक के भारी दबाव में सरकार की चली तो अब फूल से नहीं बल्कि दंड पर प्रशासन ज्यादा ध्यान देगा।

क्या है सरकार की तैयारी > नियम का उल्लंघन करने वालों पर खुफिया कैमरे से नजर रखी जा रही है। > डीटीसी की बसें 64 लाख लोगों को यात्रा करवाएंगी । > दिल्ली मेट्रो फिलहाल 26 लाख य़ात्रियों को ले जाती है आज से 32 लाख लोगों को ले जा जाएगी। > आज सभी एसडीम, तहसीलदार, एडीएम और डीएम सड़क पर रहेंगे।

पिछले तीन दिनों के रिजल्ट से सरकार और प्रशासन उत्साहित है लेकिन आज की चुनौती बड़ी है। आंकड़े के मुताबिक 1 और 2 जनवरी को नियम तोड़ने के जुर्म में 567 लोगों का चालान किया गया। इसके अलावा 348 आटो वालों का भी चालान किया गया है। आज फॉर्मूले की जीत और हार का सवाल है। अगर आज दिल्ली इस नये फॉर्मूले पर खड़ी उतरती है तो शायद ये नियम 15 दिन बाद भी लागू रह सकता है।