प्यार के प्रतीक ताजमहल को गोद लेने वाला कोई नहीं

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (15 जून): आगरा की शान कहा जाने वाला ताजमहल एक बार फिर चर्चा का विषय बना हुआ है। पर्यटन मंत्रालय की तरफ से ऐतिहासिक महत्व के स्मारकों के लिए शुरू की गई 'अपनी धरोहर, अपनी पहचान' योजना के तहत ताजमहल के वास्ते बोली मंगाने में सरकार की तरफ से 'सक्रियता' नहीं दिखाई जा रही है।मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक तुरंत गोद दिए जाने वाले ऐतिहासिक धरोहरों की सूची में ताजमहल का नाम नहीं है। उन्होंने कहा कि इस ऐतिहासिक मकबरे को गोद देने के मामले में कई तरह की दिक्कतें आने का संभावना है।खबरों के मुताबिक ताजमहल को लेकर बहुत कुछ हो रहा है। ताजमहल पर सुप्रीम कोर्ट की व्यवस्था आई थी। यह स्मारक विशाल है और इसमें बहुत से पेच फंसे हैं। इसे सूची से बाहर नहीं किया गया है। लेकिन सूची बहुत लंबी है और जरूरी नहीं कि हर स्मारक को गोद दिया ही जाए। कमिटी फैसला कर सकती है कि ताजमहल को फिलहाल गोद दिए जाने की जरूरत नहीं है। हम इस पर काम नहीं कर रहे हैं। हो सकता है कि कुछ स्मारक को तुरंत गोद दिए जाने की जरूरत ना हो। उन्होंने कहा कि फिलाल ताजमहल तात्कालिक सूची में नहीं है।