राज्यों के बीच चलेंगी 2 महल की लक्जरी बसें

प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली ( 20 सितंबर ): केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने सार्वजनिक परिवहन में सुधार का आवान करते हुए आज राज्यों के परिवहन मंत्रियों से कर और परमिट के मुद्दों पर सुझाव देने को कहा। मंत्रालय के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी।

अधिकारी के अनुसार मंत्री ने राज्यों से वड़ोदरा की तर्ज पर आधुनिक बंस बंदरगाह बनाने का अनुरोध किया। उन्होंने बसों के लिये बेहतर मानदंड के अलावा डबल डेकर पर भी जोर दिया। उन्होंने जोर देकर कहा कि ऐसी बसों को राज्यों के बीच चलाये जाने की जरूरत है।

केंद्र सरकार लंबी दूरी पर शहरों के बीच डबल डेकर लक्जरी बसों को चलाने के लिए राज्य सड़क परिवहन उपक्रम (एसआरटीयू) को प्रेरित करने योजना बना रही है। दिल्ली-आगरा, दिल्ली-जयपुर, लखनऊ-गोरखपुर, वडोदरा-मुंबई, श्रीनगर-जालंधर, कोझिकोड-कोच्चि, बेंगलुरु-मैंगलोर और विशाखापट्टनम-भुवनेश्वर रूट शामिल है। 

राष्ट्रीय राजमार्ग नेटवर्क के ट्रैफिक सर्वेक्षण के आंकड़ों के मुताबिक प्रति दिन बस यात्रियों में 2016 में 45 फीसदी की कमी आई और 2017 में 40 फीसदी की कमी। तो वहीं कार यात्रियों की संख्या में इस वर्ष 60 फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई है, जबकि 2016 यह संख्या 55% थी। एक अधिकारी ने कहा, "अगर हम कार यात्रियों को बस में स्थानांतरित नहीं करते हैं, तो हमें सड़कों का विस्तार करना होगा, जो कि बहुत महंगा प्रस्ताव है।"