मोबाइल वैन के जरिए केंद्र सरकार बेचेगी सस्ती दाल

नई दिल्ली (15 जून): दाल की बढ़ती कीमत और महंगाई पर अंकुश लगाने के लिए केंद्र सरकार अब मोबाइल वैन से सस्ती दाल बेचेगी। इस योजना का शुभारंभ केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान की।

सरकार की ओर से किसानों से अब तक 1.11 लाख टन दालें खरीदी जा चुकी हैं। सरकार 38,500 टन दालों का आयात करने के लिए अनुबंध भी की है। खुदरा मूल्यों पर अंकुश लगाने के प्रयासों के तहत सरकार ने ये कदम उठाए हैं। केंद्र ने राज्य सरकारों से बफर स्टॉक से दालों के आवंटन के लिए अपनी मांग रखने को भी कहा है। साथ ही इन्हें उचित मूल्यों पर बेचने के निर्देश दिए हैं। ये दालें राज्यों की ओर से 120 रुपये प्रति किलो से ज्यादा की दर से नहीं बेची जाएंगी।   उपभोक्ता मामलों के सचिव हेम पांडे की अध्यक्षता में पिछले दिनों हुई अंतर-मंत्रालयीन समिति की बैठक में आवश्यक जिंसों के मूल्यों की समीक्षा की गई थी। बैठक में बताया गया कि 38,500 टन अनुबंधित दालों में से करीब 13 हजार टन पहले ही देश में आ चुकी हैं। छह हजार टन आना है। सरकार ने बीते साल दिसंबर में डेढ़ लाख टन दालों की खरीद करके इसका बफर स्टॉक तैयार करने का फैसला किया था। खुदरा बाजार में कीमतों के चढऩे पर इसका उपयोग किया जाना है। घरेलू आपूर्ति बढ़ाने के लिए भी सरकार दालों का आयात कर रही है। देश के कई हिस्सों में सूखे के कारण दालों की पैदावार में कमी आई है।