सऊदी अरब में फंसे 3000 भारतीयों को निकालने के लिए सरकार करेगी ये काम

Photo: Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (21 दिसंबर): विदेश में फंसे भारतीयों की मदद के लिए एक बार फिर मोदी सरकार आगे आई है। सऊदी अरब में 3000 भारतीय श्रमिक फंसे हुए है, जिनको वहां से वापस लाने के लिए मोदी सरकार ने श्रमिकों को वापसी टिकट मुहैया कराने का फैसला किया है। यही नहीं केंद्र सरकार का कहना है कि जो वहां रूककर काम करना चाहते हैं, उनके आवासीय परमिट को नवीनीकृत करने के प्रयास किए जा रहे हैं।

इस बात की जानकारी केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने दी। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के एक पत्र के बारे में जिक्र करते हुए बादल ने कहा कि रियाद में भारतीय मिशन उन 13 निर्माणस्थलों का निरीक्षण कर रहा है, जहां भारतीय श्रमिक रह रहे हैं। मिशन भारतीय श्रमिकों की कुशलता खास तौर पर उनके इलाज और दवाई की जरूरत को पूरा करने के लिए उनके साथ है।

बादल ने इस मुद्दे को विदेश मंत्रालय के समक्ष उठाते हुए इशारा किया कि वहां फंसे हुए लोगों में से 1,000 पंजाब के हैं। उन्होंने कहा कि सऊदी अरब में फंसे भारतीय श्रमिकों को उनके नियोक्ता ने वेतन नहीं दिया है, जबकि उनके वीजा और आवासीय परमिट की समयसीमा भी समाप्त हो चुकी है। विदेश मंत्री स्वराज ने उन्हें भारत सरकार द्वारा उठाए गए कदम की जानकारी देते हुए पत्र लिखा।

पत्र की चर्चा करते हुए बादल ने कहा कि इन श्रमिकों को सऊदी अरब की एक बड़ी निर्माण कंपनी ने नौकरी दी थी, लेकिन वित्तीय नुकसान की वजह से यह कंपनी बंद हो गई। भारतीय अधिकारी वहां श्रमिकों के आवासीय परमिट के नवीनीकरण को सुनिश्चित करने का प्रयास कर रहे हैं, ताकि वहां अब भी काम करने की इच्छा रखने वाले रह सकें।

बादल ने कहा कि भारतीय मिशन सम्बंधित कंपनी के अधिकारियों के भी संपर्क में है, ताकि श्रमिकों को उनका बकाया वेतन मिल जाए। उन्होंने कहा कि वैसे श्रमिक जो भारत लौटना चाहते हैं, उन्हें टिकट देने की व्यवस्था भी की गई है।