भ्रामक विज्ञापनों को लेकर सेलिब्रिटी को होगी 5 साल की जेल, 50 लाख का जुर्माना

नई दिल्ली (31 अगस्त): अगर कोई भी बॉलीवुड सितारा किसी ऐसे उत्पाद का विज्ञापन करता है तो सही नहीं है तो उपको 5 साल की जेल या 50 लाख रुपये जुर्माना का दंड झेलना पड़ सकता है। सरकार ने भ्रमक विज्ञापनों पर शिकंजा कसने के लिए जो नया ड्राफ्ट तैयार किया है, उसमें इन सभी बातों का उल्लेख किया गया है।

वित्त मंत्री अरूण जेटली की अध्यक्षता वाले मंत्री समूह की बैठक में ड्राफ्ट को मंजूरी के लिए कैबिनेट के समक्ष पेश करने से पहले उपभोक्ता मंत्रालय विभाग द्वारा सुझाए गए प्रस्तावों पर विचार किया जाएगा। इस अनौपचारिक मंत्री समूह में जेटली के अलावा उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान, स्वास्थ्य मंत्री जे पी नड्डा, परिवहन मंत्री नितिन गडकरी, विधि मंत्री रविशंकर प्रसाद, बिजली मंत्री पीयूष गोयल तथा वाणिज्य मंत्री निर्मला सीतारमण भी हैं।

सूत्रों ने कहा कि मंत्रालय ने भ्रामक विज्ञापनों से निपटने के लिए कड़े प्रावधानों तथा ऐसे विज्ञापन करने वाली हस्तियों की जवाबदेही तय करने का प्रस्ताव किया है। पहली बार अपराध पर 10 लाख रूपये का जुर्माना व दो साल की सजा का प्रस्ताव है। वहीं अगर कोई सेलिब्रिटी या एंबैस्डर दूसरी बार या आगे और गलती करता है तो 50 लाख रूपये तक का जुर्माना या पांच साल की सजा हो सकती है।

उल्लेखनीय है कि केंद्र ने पिछले साल अगस्त में उपभोक्ता संरक्षण विधेयक 2015 लोकसभा में पेश किया ताकि 30 साल पुराने उपभोक्ता संरक्षण कानून को हटाया जा सके। संसद की स्थायी समिति ने अपनी सिफारिशें अप्रैल में सौंप दीं। समिति की रपट का अध्ययन करने के बाद उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने कुछ प्रमुख सिफारिशों को स्वीकार किया जिनमें सेलिब्रिटी की जवाबदेही तय करना तथा मिलावट के लिए कड़ा दंड आदि शामिल है।