बच्चों की बल्ले-बल्लेः सीबीएसई ने कहा 'नो होमवर्क - नो स्कूल बैग'

नई दिल्ली (12 सितंबर): सीबीएसई के नये फरमान से नौनिहालों की बल्ले-बल्ले हो गयी है। सीबीएसई ने कहा है कि अब पहली और दूसरी कक्षा के बच्चों को न तो होम वर्क दिया जायेगा और न ही उनसे स्कूल बैग यानी बस्ता ही ढुलवाया जायेगा। सीबीएसई ने एक आदेश जारी कर अपने सभी स्कूलों से कहा है कि इन निर्देशों का सख्ती पालन किया जाये।

बस्ते के बोझ और होम वर्क की टेंशन ने बच्चों का बचपन छीन लिया था। उनके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा था। बोर्ड ने यह भी कहा है कहा कक्षा आठ तक के टेक्स्ट बुक हल्की होनी चाहिए। उनकी कोई भी किताब या कॉपी हार्ड बाउंड नहीं होनी चाहिए। बोर्ड ने स्कूलों को निर्देश दिया है कि अब आगे से भारी और कई-कई वोल्यूम वाली अनावश्यक सप्लीमेंटरी टेक्स्टबुक खरीदने के लिए बच्चों को बाध्य नहीं किया जाना चाहिए।