CBI के छापे पर बोले चिदंबरम- सरकार मेरी आवाज दबाना चाहती है


नई दिल्ली(16 मई): सीबीआई ने पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति चिदंबरम के घर छापा मारा है। यह छापा मंगलवार अल सुबह मारा गया और फिलहाल चेन्नई स्थित उनके आवास के अलावा दिल्ली और नोएडा स्थित 14 जगहों पर कार्रवाई जारी है।


-छापे को लेकर पी चिदंबरम में आरोप लगाया है कि इस कार्रवाई के माध्यम से सरकार के इशारे पर उनके बेटे और उसके दोस्तों को निशाना बनाया जा रहा है। सरकार मुझे लिखने से रोकना चाहती है क्योंकि उन्होंने पत्रकारो, कॉलमिस्ट, एनजीओ और विपक्षी दलों के साथ कोशिश की थी।


-जानकारी के अनुसार चिदंबरम के ठिकानों पर यह छापे आईएनएक्स मीडिया को दिए गए क्लीयरेंस के सिलसिले में मारे गए हैं। इस मामले में सोमवार को ही एक 

एफआईआर दर्ज हुई है।


-गौरतलब है कि इससे पहले 17 अप्रैल को प्रवर्तन निदेशालय ईडी ने 45 करोड़ रुपए से जुड़े फेमा कानून के उल्लंघन को लेकर कार्ति चिदंबरम और उनसे कथित तौर पर संबंधित कंपनी को कारण बताओ नोटिस जारी किया था।


-ईडी ने दो साल से अधिक की जांच के बाद इसी प्रकार का नोटिस चेन्नई की कंपनी मेसर्स वासन हेल्थकेयर प्राइवेट लि. को 2,262 करोड़ रुपए के विदेशी विनिमय प्रबंधन कानून फेमा नियमों के उल्लंघन को लेकर जारी किया है।


-प्रवर्तन निदेशालय ने एक नोटिस में कहा कि मेसर्स एडवांटेज स्ट्रैटजिक कंसल्टिंग प्राइवेट लि ने विदेशी निवेशकों को वासन चेन्नई की कंपनी के शेयरों की बिक्री सौदे में करीब 45 करोड़ रुपए की गड़बड़ी की।


-इसके अनुसार, मेसर्स एडवांटेज स्ट्रैटजिक कंसल्टिंग प्राइवेट लिमिटेड व उसके निदेशकों तथा कार्ति पी चिदंबरम को भी नोटिस जारी किए गए हैं। ऐसा जान पड़ता है कि वह नियंत्रक हैं और इस सौदे के वे हीं लाभार्थी हैं।