दाभोलकर हत्याकांड: 3 साल बाद CBI ने एक डॉक्टर को किया गिरफ्तार

नई दिल्ली(11 जून): डाॅ. नरेंद्र दाभोलकर हत्या मामले में 3 साल बाद पहली गिरफ्तारी हुई है। सीबीआई ने डॉक्टर वीरेंद्र तावड़े को मुंबई के पनवेल इलाके से गिरफ्तार किया।

तावड़े को शनिवार को पुणे की शिवाजी नगर कोर्ट में पेश किया जाएगा। डॉ. दाभोलकर की 20 अगस्त 2013 को पुणे में दो लोगों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। आरोपी तावड़े हिंदू जागरण समिति का वर्कर है। वह मुंबई के एक हॉस्पिटल में बतौर ईएनटी स्पेशलिस्ट 15 साल से काम कर रहा है।

इससे पहले सीबीआई ने तावड़े और सारंग अकोलकर के घर छापेमारी की थी। छापेमारी में पता चला कि दोनों ईमेल के जरिए एक दूसरे से कॉन्टैक्ट में थे। 2009 में गोवा में हुए ब्लास्ट मामले में सारंग का नाम सामने आया था। सीबीआई ने तावड़े को पूछताछ के लिए बुलाया था। शुक्रवार शाम उसे अरेस्ट कर लिया गया।

ये है पूरा मामला 

- अंधविश्वास के खिलाफ लड़ाई लड़ने वाले डॉ. नरेंद्र दाभोलकर की पुणे के महर्षि विट्ठल रामजी ब्रिज पर 20 अगस्त 2013 को दो अज्ञात लोगों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। जांच में सामने आया कि वारदात से 47 मिनट पहले ही हत्यारे ओंकारेश्वर पुल पर पहुंच चुके थे और महज तीन मिनट में घटना को अंजाम दे फरार हो गए।

हत्यारों का पता नहीं लगाने में नाकाम रही पुलिस पर हत्या का सुराग लगाने के लिए तांत्रिक की मदद लेने का आरोप भी लगा। डॉ दाभोलकर की हत्या के बाद पूरे महाराष्ट्र में सरकार के खिलाफ प्रदर्शन हुए।