ये हैं दुनिया के सबसे सफल कैशलेस इकोनॉमी वाले देश...!

नई दिल्ली (17 दिसंबर): भारत में नोटबंदी के बाद कैशलेस सिस्टम को बढावा देने की कोशिश की जा रही है। सरकार की इस कोशिश का कई सारे दल और समूह विरोध भी कर रहे हैं। वैसे दुनिया भारत में पहला ऐसा देश नही है जो कैशलेश सिस्टम को अपनाने जा रहा है। दुनिया में  कई देश हैं जहीं कैशलेस इकोनॉमी है।  आईए डालते हैं नजर कैशलेस इकोनॉमी वाले सबसे सफल 10 देशों पर एक ऩजरः

- दक्षिण कोरिया

मास्टर कार्ड कैशलेस जर्नी नाम की एक रिपोर्ट में दुनिया की सबसे ज्यादा कैशलेस अर्थव्यवस्थाओं का ब्यौरा दिया गया है। इस लिस्ट में 10वें पायदान पर दक्षिण कोरिया है जहां समूचे कंज्यूमर पेमेंट का 70 फीसदी पेमेंट कैशलेस होता है। देश की 58 फीसदी आबादी के पास डेबिट कार्ड है।

 

- जर्मनी

सबसे कैशलेस देशों की फेहरिस्त में नौवें नंबर पर यूरोप की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था जर्मनी है। यहां कुल कंज्यूमर पेमेंट का 76 प्रतिशत भुगतान कार्ड या अन्य कैशलेस तरीकों से होता है। 88 फीसदी आबादी के पास डेबिट कार्ड है।

- अमेरिका

अमेरिका में 72 प्रतिशत लोगों के पास डेबिट कार्ड है जबकि कुल कंज्यूमर पेमेंट का 80 फीसदी पेमेंट कैशलेस होता है। हालत यह है कि वहां एटीएम मशीनों की प्रासंगिकता पर सवाल उठने लगे हैं।

 

- नीदरलैंड्स

नीदरलैंड्स ने कैशलेस होने के मामले में खासी प्रगति की है जहां कुल कंज्यूमर पेमेंट का 85 फीसदी पेमेंट कैशलेस हो रहा है। देश के 98 प्रतिशत लोगों के पास डेबिट कार्ड है। राजधानी एम्सटरडैम में पार्किंग वाले तक कैश नहीं लेते, सिर्फ कार्ड से ही पेमेंट होता है।

 

- ऑस्ट्रेलिया

ऑस्ट्रेलिया में 79 प्रतिशत लोगों के पास डेबिट कार्ड है जबकि कंज्यूमर पेमेंट का 86 प्रतिशत कैशलेस होता है। वहां कैशलेस पेमेंट को बढ़ावा देने के लिए कई आयोजन होते हैं।

 

5. स्वीडन

स्वीडन में 2008 में जहां 110 बैंक डकैतियां हुईं, वहीं 2011 में इतनी संख्या घटकर 16 रह गई। वजह है बैंकों में कम से कम कैश होना। कैशलेस देशों की सूची में स्वीडन पांचवें नंबर पर है जहां कंज्यूमर पेमेंट का 89 फीसदी हिस्सा कैशलेस है। देश के 96 प्रतिशत लोगों के पास डेबिट कार्ड है।

 

- ब्रिटेन

लंदन की मशहूर डबल डेकर बस में चढ़ने से पहले सुनिश्चित कर लें कि आपके पास या तो 'ओइस्टर कार्ड' हो या प्रिपेड टिकट, क्योंकि इसमें कैश नहीं चलता। वैसे पूरे ब्रिटेन में कैश का चलन घट रहा है। कुल कंज्यूमर पेमेंट का 89 कैशलेस ही होता है और 88 फीसदी लोगों के पास डेबिट कार्ड हैं।

 

- कनाडा

कनाडा में कुल कंज्यूमर पेमेंट का 90 फीसदी कैशलेस होता है जबकि देश के 88 फीसदी लोगों के पास डेबिट कार्ड है। वैसे, कनाडा ने 2013 से सेंट के सिक्के बनाना बंद कर दिया है। यानी वहां भी कैशलेस होने पर ज्यादा से ज्यादा जोर है।

 

- फ्रांस

फ्रांस में 69 प्रतिशत लोगों के पास डेबिट कार्ड है, हालांकि कुल कंज्यूमर पेमेंट का 92 फीसदी हिस्सा कैशलेस होता है। फ्रांस में तीन हजार यूरो से ज्यादा कैश के लेन-देन की अनुमति नहीं है।

 

- बेल्जियम

फिलहाल बेल्जियम दुनिया का सबसे ज्यादा कैशलेस देश है जहां कुल कंज्यूमर पेमेंट का 93 फीसदी कैशलेस होता है। देश की 86 फीसदी आबादी के पास डेबिट कार्ड है। वहां अगर तीन हजार यूरो से ज्यादा कैश का लेन-देन किया तो सवा दो लाख यूरो तक का जुर्माना हो सकता है।