ATM में पैसों की किल्लत को लेकर सरकार सख्त, जमाखोरों की तलाश शुरु

नई दिल्ली (19 अप्रैल): देश के एटीएम में पैसों की किल्लत को लेकर सरकार बेहद सख्त हो गई है। अब सरकार की नजर नए नोटों की जमाखोरी करने वालों पर है। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट अब ऐसे जमाखोरों की तलाश कर रहा है। 

देश में जैसे ही कैश की किल्लत आई सरकार ने दो बड़े कदम उठाए हैं। पहला ये कि इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने कर्नाटक और आध्रप्रदेश में 30 से 35 जगहों पर छापमारी की औऱ दूसरा रिजर्व बैंक उन राज्यों में ज्यादा से ज्यादा रुपयों की सप्लाई कर रहा है जहां से कैश कमी की शिकायत आई। अब तक की रिपोर्ट में कहा गया है कि सिर्फ बिहार में 800 से लेकर 900 करोड़ तक रुपए एटीएम में डाले गए हैं। लेकिन सबसे बड़ा सवाल ये है कि आखिर देश में किल्लत हुई ही क्यों ? दरअसल आंध्रप्रदेश और तेलंगाना में जमाखोरी की सबसे ज्यादा शिकायत मिली हैं ।  हालांकि इन दो राज्यो में 30 से 35 जगहों पर जो छापेमारी हुई है उसमें बहुत बड़ी रकम नहीं मिली है लेकिन ये कहा गया है कि इन राज्यो में सबसे ज्यादा 2000 के नए नोटों की जमाखोरी हुई है । जिसकी वजह से एटीएम के लिए पैसे कम पड़ गए। मीडिया रिपोर्ट में ये भी दावा किया गया है कि कैश की मांग और आपूर्ति में 70 हजार करोड़ का अंतर आया है ।  मीडिया रिपोर्टस में ये भी कहा गया है कि देश में 19.4 लाख करोड़ नकद की जरूरत है। बैंकों में और बाजार में 17 लाख 50 हजार करोड़ रुपए ही हैं। हालांकि सरकार ने 2000 के नए नोटों की कमी पर पहले ही कह दिया है कि इसकी भरपाई 200 और 500 के नए नोटों की तेजी से छपाई कर पूरा कर लेंगे। देवास के नोट प्रिंटिंग प्रेस में लगातार तीन शिफ्ट में नोटों की लगातार छपाई का काम चल रहा है। इसके लिए कर्मचारियों की कमी हो गई इसलिए प्रिंटिंग के काम में रिटायर्ड कर्मचारियों को लगाया गया है।