नए साल से लोगों को ना हो कैश की दिक्कत: रामदेव

नई दिल्ली(20 दिसंबर): योग गुरु बाबा रामदेव ने कहा कि नोटबंदी से पैदा हुई कैश की तंगी नया साल शुरू होने तक दूर की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रशासन के सामने यह सुनिश्चित करने की चुनौती है कि सरकार पर लोगों के भरोसे को कोई झटका न लगे।

- रामदेव ने कहा कि जिन बैंक अधिकारियों ने 'मोदीजी के नोटबंदी के मिशन के साथ विश्वासघात किया है', उन्हें कड़ी सजा दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि दोषी अधिकारियों को 'उम्रकैद' की सजा मिलनी चाहिए।

- रामदेव ने कहा, 'मुझे विश्वास है कि मोदीजी दोषी और भ्रष्ट अधिकारियों को नहीं छोड़ेंगे, जिन्होंने उनकी और इस देश के लोगों की पीठ में छुरा घोपा है।'

- उन्होंने कहा कि नोटबंदी के सरकारी निर्णय को लागू करने के दौरान लोगों को असुविधा नहीं होनी चाहिए। उद्योगों को कुछ वक्त के लिए हुआ नुकसान तो दूर हो जाएगा, लेकिन अगर किसी मजदूर को महीने में चार बार कतारों में खड़ा रहना पड़े तो हर उस दिन वह अपनी मजदूरी से हाथ धोएगा। ऐसी दिक्कतों ने मोदीजी के मिशन को बड़ा धक्का पहुंचाया है।

- योगगुरू ने कहा कि प्रक्रिया से जुड़ी इन समस्याओं के कारण लोगों को बहुत परेशानी हो रही है और कुछ लोगों की नौकरी भी चली गई है। उन्होंने कहा, 'आरबीआई के कुछ अधिकारियों को भी गिरफ्तार किया गया है। ऐसे विश्वासघात की तो कल्पना भी नहीं की जा सकती है।' उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था से जुड़े मामलों में किसी भी नेता से ज्यादा विश्वास लोग आरबीआई गवर्नर पर करते हैं।

- उन्होंने कहा कि नोटबंदी की अवधि पूरी होने के बाद जब पैसे की जांच शुरू हो तो आरबीआई, इनकम टैक्स विभाग और बैंकों के अधिकारियों को ईमानदार लोगों को परेशान नहीं करना चाहिए।

- रामदेव ने कहा कि गलत ढंग से टैक्स लगाने से भय पैदा होता है और अगर लोगों को आरबीआई और इनकम टैक्स विभाग के अधिकारियों से 'ऐसा ही खतरा' महसूस होगा तो यह देश के लिए ठीक बात नहीं होगी। उन्होंने कहा, 'किसी भी कीमत पर लोगों का भरोसा नहीं टूटना चाहिए।'

- उन्होंने कहा कि सरकार को कार्ड स्वाइप मशीनों से पेमेंट्स पर ट्रांजैक्शन चार्ज घटाना चाहिए। उन्होंने कहा, '2-2.5% का मौजूदा रेट बहुत ज्यादा है। इससे व्यापारियों और कंपनियों पर खराब असर पड़ेगा।' बाबा रामदेव ने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल का यह आरोप खारिज कर दिया कि नोटबंदी एक घोटाला है। रामदेव ने कहा, 'इससे इकॉनमी को सही रास्ते पर लाया गया है। बैंकिंग सिस्टम को इससे बड़ा लाभ होगा।'