कार लोन लेने से पहले ध्यान रखें ये जरूरी बातें

                                                                                         Photo: Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली ( 3 नवंबर ): घर के साथ एक ब्रांडेड कार लेना हर किसी का सपना होता है. कार से न सिर्फ आपका जीवन आरामदेह बनाता है, बल्कि बहुत सी मुश्किलें कम हो जाती हैं। पब्लिक ट्रांसपोर्ट से जूझते हुए दफ्तर पहुंचना या वीकेंड पर घूमने के लिए बाहर जाना, सब कुछ बहुत आसान हो जाता है। पहले कार खरीदना किसी के लिए भी बहुत बड़ी बात होती थी, क्योंकि इसके लिए एकमुश्त रकम खर्च करनी पड़ती थी, लेकिन अब लोन आसानी से उपलब्ध होने की वजह से यह बहुत आसान हो गया है।

हालांकि, इसका भरपूर लाभ उठाने के लिए आपको पहले कार लोन के लिए आवेदन कर देना चाहिए। यदि आप पहली बार लोन ले रहे हैं, तब भी आप इसे बड़ी आसानी से कर सकते हैं। आपको बस कुछ बुनियादी बातों की जानकारी होनी चाहिए जो निम्नलिखित हैं...   

-आपको एक कार की खरीदारी के लिए पैसे उधार देने से जुड़े रिस्क को समझने के लिए उधारदाता आपकी क्रेडिट हिस्ट्री देखते हैं। इसके लिए वे आपका क्रेडिट स्कोर चेक करते हैं। तीन अंकों वाले इस क्रेडिट स्कोर की मदद से उधारदाता को आपकी क्रेडिबिलिटी को समझने में आसानी होती है, क्योंकि यह सबसे हाल के सालों में आपकी क्रेडिट हिस्ट्री और मैनेजमेंट पर आधारित होता है। लेकिन आप अपना क्रेडिट स्कोर खुद भी चेक कर सकते हैं। इससे आपको आपके कार लोन ऐप्लिकेशन के बारे में अपने संभावित उधारदाता के नजरिए को समझने में मदद मिलेगी। 

-आप किसी गलती का पता लगाने के लिए भी अपनी क्रेडिट रिपोर्ट चेक कर सकते हैं और उन्हें ठीक करवा सकते हैं। इसके अलावा, यदि आपका क्रेडिट स्कोर कम है तो आप उसे बेहतर बनाने के उपाय कर सकते हैं, ताकि आपको बेहतर इंट्रेस्ट रेट और बेहतर लोन ऑफर मिल सकें। इन दोनों के बीच का रिश्ता बहुत आसान है- आपका स्कोर जितना ज्यादा होगा, आपको उतना सस्ता लोन मिलेगा।
-आप जितने ज्यादा लोन ऑफर देखेंगे, आपको उनके बारे में उतनी ज्यादा जानकारी होगी और आपको अपनी जरूरत के हिसाब से उतना अच्छा लोन ढूंढने में आसानी होगी। एक कार लोन की अधिकतम समय सीमा सात साल होती है, लेकिन फिर भी आप उधार लेने के अन्य तरीकों पर गौर कर सकते हैं और अपने मनपसंद उधारदाता का चयन कर सकते हैं। इस तरह, आप एक से अधिक लोन ऐप्लीकेशन के कारण आपके क्रेडिट स्कोर को होने वाले नुकसान से बच सकते हैं, क्योंकि इस तरह आप सही उधारदाता का चयन कर सकते हैं।

- इंट्रेस्ट रेट के अलावा इससे जुड़े अन्य सभी चार्ज के बारे में पता लगाने की कोशिश करें। उदाहरण के लिए, एक प्रमुख बैंक अपने मौजूदा सेविंग्स अकाउंट कस्टमरों के लिए एक कार खरीदने के लिए 100% तक का फाइनैंस ऑफर करता है जबकि अन्य कर्जदाता 90% तक फाइनैंस करते हैं। इसके अलावा, कुछ उधारदाता, इंश्योरेंस और एक्सेसरीज खरीदने के लिए पैसे नहीं देते हैं। इसलिए, अप्लाई करने से पहले उस लोन के बारे में पूरी जानकारी जुटा लें, जिसे आप लेने का विचार कर रहे हैं।

-एक कार लोन के लिए अप्लाई करने से पहले अपनी अन्य फाइनैंशल देनदारियों पर विचार करें। ढेर सारा मौजूदा कर्ज आपके इनकम को सीमित कर देता है और आपकी लोन चुकाने की क्षमता पर बहुत बुरा असर डालता है। 

-कर्ज और इनकम का अनुपात अधिक होने पर आपके क्रेडिट स्कोर पर भी बुरा असर पड़ता है। इसलिए, एक नए लोन के लिए अप्लाई करने से पहले अपने मौजूदा कर्ज को क्लीयर करने की कोशिश करें। सबसे पहले सबसे ज्यादा इंट्रेस्ट रेट वाले लोन को क्लीयर करने की कोशिश करें।
-हो सकता है कि आपका बैंक अन्य उधारदाताओं से एकदम थोड़ा से कम इंटरेस्ट रेट पर लोन दे रहा हो, लेकिन फिर भी सिर्फ सुविधा के लिए अपने बैंक का चयन न करें। इंटरेस्ट में थोड़ा सा अंतर भी आपके लॉन्ग-टर्म इंटरेस्ट पेमेंट पर बहुत बड़ा प्रभाव डाल सकता है। अलग-अलग इंटरेस्ट रेट पर आधारित EMI की तुलना करने के लिए EMI कैलकुलेटर का इस्तेमाल करें और यह पता लगाने की कोशिश करें कि आपको कुल मिलाकर कितना इंटरेस्ट देना पड़ सकता है। उसके बाद सबसे सस्ते उधारदाता का चयन करें। एक और ध्यान देने लायक चीज है - फिक्स्ड और फ्लोटिंग इंटरेस्ट। फिक्स्ड रेट, फ्लोटिंग रेट से थोड़ा अधिक होता है लेकिन इसमें आपकी EMI और समय सीमा फिक्स्ड होती है।

- फ्लोटिंग रेट, उतार-चढ़ाव और इकॉनोमिक पॉलिसी के कारण बदलता रहता है लेकिन यह फिक्स्ड रेट से ज्यादा सस्ता हो सकता है और इसके प्रीपेमेंट पर कोई पेनाल्टी भी नहीं लगती है। इसलिए, इन बातों का ध्यान रखें और अपने कार लोन के लिए सही रेट चुनें।
-आपके लोन का सस्तापन सिर्फ उसके इंट्रेस्ट रेट तक ही सीमित नहीं होता है। EMI की डेट मिस होने की संभावना न होने के बावजूद इसके मिस होने की संभावना को ध्यान में रखते हुए उस पर लगने वाले लेट चार्ज पर भी गौर करें। इसके अलावा आपको अन्य प्रकार के चार्ज पर भी गौर करना चाहिए, जैसे प्रीपेमेंट और फोरक्लोजर चार्ज या प्रोसेसिंग फी और स्टेटमेंट चार्ज। 

-एक ऐसे लेंडर का चुनाव करें, जो इससे जुड़े सभी चार्ज के बारे में पारदर्शी हो ताकि आगे चलकर कोई अफसोस न करना पड़े। अब इन सभी चार्जों को ध्यान में रखते हुए, पहले से ही अपने रीपेमेंट की प्लानिंग करके रखें ताकि आप उसे बड़े आराम से और बिना किसी परेशानी के चुका सकें।
-आप चाहें तो लोन कंपनियों की वेबसाइट पर एलिजिबिलिटी कैलकुलेटर का इस्तेमाल करके देख सकते हैं कि आपको कितना लोन मिल सकता है। लेकिन, आपको इससे पहले अपने प्री-अप्रूव्ड ऑफरों को एक भी एक बार देख लेना चाहिए। एक प्री-अप्रूव्ड ऑफर के तहत आपको आपके मौजूदा इनकम रिकॉर्ड या उधारदाता के साथ आपकी पिछली क्रेडिट हिस्ट्री के आधार पर एक कस्टमाइज्ड कार लोन ऑफर किया जा सकता है। एक प्री-अप्रूव्ड ऑफर के लिए अप्लाई करने पर आपका लोन ऐप्लीकेशन बिना किसी परेशानी के बहुत जल्दी प्रोसेस हो सकता है। इसके अलावा, इस तरह के ऑफर में ऐप्लीकेशन रिजेक्ट होने का चांस ना के बराबर होता है।
-एक प्रफेशनल की तरह अपने फाइनैंस को मैनेज करते हुए अपनी मनपसंद कार खरीदने के सपने को पूरा करने के लिए लोन की मदद लेते समय ऊपर बताई गई बातों का ध्यान रखें। बस इतनी सी बात याद रखें, अपने कार लोन का पेमेंट टाइम पर करें और पूरा लोन चुकाने के बाद अपने उधारदाता से हाइपोथीकेशन या बंधन हटाने के लिए जरूरी कागजात लेना न भूलें।