3 हजार छात्रों को NEET एग्जाम सेंटर में नहीं मिली एंट्री...

लखनऊ (24 जुलाई): सीबीएसई ने नेशनल एलिजबिलिटी-कम-एन्ट्रेंस टेस्‍ट (NEET-2) को ऑर्गनाइज कराया। सख्त नियमों की वजह से करीब 3 हजार कैंडिडेट्स को एग्जाम में एंट्री नहीं करने दी। छात्रों को सुबह 9.30 बजे तक सेंटर पहुंचना था, लेकिन पहुंचने के बावजूद उन्हें एंट्री नहीं दी गई।

कैंडिडेट्स ने सेंटर पर मौजूद गार्ड्स से कहा, 'प्‍लीज गेट खोल दीजिए, अभी एंट्री का टाइम बाकी है।' इस पर गार्ड बोले, 'एंट्री बंद हो गई है, शोरगुल मत करो। यहां से चले जाओ।'

सेंटर पर रोने लगे कैंडिडेट... - लखनऊ के 60 सेंटर्स पर 35 हजार बच्‍चे NEET-2 एग्‍जाम देने आए। - केंद्रीय विद्यालय, गोमतीनगर में पेपर देने पहुंची दीपशिखा ने बताया, 'हम सेंटर पर 9 बजकर 15 मिनट पर पहुंचे थे।' - एंट्री का टाइम साढ़े 9 बजे तक था। जब वह गेट पर पहुंची तो गार्ड अंदर से गेट बंद कर रहा था। पेपर का टाइम 10 से 1 बजे तक था। - इसके बाद उसने और दूसरे कैंडिडेट्स गार्ड से कहा कि प्‍लीज गेट खोल दीजिए, अभी एंट्री का टाइम बाकी है। - इस पर गार्ड ने उनसे कहा, 'एंट्री बंद हो गई है, चिल्‍लाने की जरूरत नहीं है। यहां से चले जाओ।'

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर हुआ एग्‍जाम: - आलम ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट ने देशभर के स्‍टेट लेवल पर ऑर्गनाइज होने वाले मेडिकल एंट्रेंस एग्‍जाम को रद्द कर दिया था। - इसके बाद मेडिकल में एंट्री नीट परीक्षा के जरिए कराने के निर्देश दिए गए। - यूपी में स्‍टेट लेवल मेडिकल एन्ट्रेंस एग्‍जाम कम्‍बाइंड प्री-मेडिकल टेस्‍ट यानी सीपीएमटी को खत्‍म कर दिया गया। - NEET-2 के जरिए प्रदेश के सरकारी मेडिकल कॉलेजों की सीटें भरने का भी सुप्रीम कोर्ट ने ऑर्डर दिया था। - इसमें उन कैंडि‍डेट्स को भी मौका दिया गया, जिन्‍होंने नीट-1 में अप्लाई नहीं किया था।