मोदी मंत्रिमंडल से हटाए गए वसावा ने जताया दर्द, कहा- 'कोई सच बोलने की हिम्मत नहीं करेगा'!

गांधीनगर (6 जुलाई) :  मोदी मंत्रिमंडल से अपनी छुट्टी किए जाने के लिए मनसुखभाई वसावा ने तीन लोगों को ज़िम्मेदार बताया है। इन तीन लोगों में उन्होंने गुजरात की मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल, केंद्रीय आदिवासी मामलों के मंत्री जुआल ओरांव और गुजरात के वित्त मंत्री सौरभ पटेल के नाम लिए। वसावा का कहना है कि इन तीनों लोगों ने उनकी शिकायत प्रधानमंत्री से की थी।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक वसावा ने कहा कि 'कोई सच बोलने की हिम्मत नहीं करेगा' कि 'किस तरीके से पार्टी और सरकार ने मेरा इस्तीफ़ा कराया।'

भड़ूच से सांसद वसावा ने दावा किया कि 'आदिवासियों के लिए मांगों' को लेकर 'मतभेद' थे। वसावा के मुताबिक गुजरात की सीएम, सौरभ पटेल और मेरे कैबिनेट मंत्री (जुआल ओरांव), तीनों ने प्रधानमंत्री से उनकी शिकायत की।

वसावा ने कहा कि उन्हें पहले से ही अपनी छुट्टी होने का अंदेशा था।

वसावा ने कहा, "जिस तरीके से पार्टी और सरकार ने मेरा इस्तीफा कराया, मैं समझता हूं कि कोई भी सच बोलने की हिम्मत नहीं करेगा। मैं पारदर्शी तरीके से काम कर रहा था, जिसकी पार्टी और सरकार बात करती है। कुछ भी गलत होने पर मैं उसकी तरफ हर किसी का ध्यान दिलाता था।"