गुजरात में बनेगा देश का पहला रेल विश्वविद्यालय, कैबिनेट ने दी मंजूरी

नई दिल्ली ( 21 दिसंबर ): केंद्रीय मंत्रिमंडल ने गुजरात के वडोदरा में देश के पहले रेल विश्वविद्यालय की स्थापना को बुधवार को मंजूरी दे दी, जो रेलवे मंत्रालय की पहल है। सरकार ने मानव संसाधन कौशल और क्षमता निर्माण को बढ़ावा देने के लिए रेल विश्वविद्यालय की स्थापना को मंजूरी दी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की बैठक के बाद जारी बयान में कहा गया कि यह यूजीसी की नोवो श्रेणी (मानद विश्वविद्यालय संस्थान) नियमन, 2016 के अंतर्गत मानद विश्वविद्यालय के रूप में स्थापित होगी।

बयान के मुताबिक, 'सरकार अप्रैल 2018 तक सभी स्वीकृतियां देने तथा जुलाई-2018 में पहला शैक्षिक सत्र शुरू करने की दिशा में काम कर रही है। प्रधानमंत्री द्वारा पेश यूनिवर्सिटी स्थापना का प्रेरक विचार नए भारत की दिशा में रेल और परिवहन क्षेत्र में बदलाव का अग्रदूत होगा।' बयान में कहा गया है कि रेल मंत्रालय कंपनी अधिनियम, 2013 की धारा आठ के अंतर्गत लाभ नहीं कमाने वाली कंपनी बनाएगा, जो प्रस्तावित विश्वविद्यालय की प्रबंधक कंपनी होगी। 

प्रबंधक कंपनी यूनिवर्सिटी को वित्तीय तथा संरचना संबंधी समर्थन देगी और विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर और प्रो चांसलर की नियुक्ति करेगी। पेशेवर लोगों और शिक्षाविदों वाला प्रबंधन बोर्ड प्रबंधक कंपनी से स्वतंत्र होगा और उसे अपने सभी अकादमिक तथा प्रशासनिक दायित्व निभाने की आजादी होगी।