अनाथ बेटियों के सामूहिक विवाह में फेरे लेगा अरबपति का बेटा

सूरत (27 जुलाई): एक हजार अनाथ बेटियों के दत्तक पिता बनने का संकल्प लेने वाले सूरत के नामी बिजनेसमैन महेश सवाणी ने अपने बेटे मितुल और भतीजे जय की शादी भी अनाथ बेटियों के सामूहिक विवाह समारोह में करने का फैसला किया है। 25 दिसंबर-2016 को होने वाले सामूहिक विवाह में 236 अनाथ बेटियों की शादी समारोह में वह अपने बेटे की शादी भी कराएंगे।

लोगों के लिए मैसैज... बिजनेसमैन महेश सवाणी का कहना है कि भगवान ने मेरे परिवार को तमाम खुशियां दी हैं। ये खुशियां सामान्य परिवारों के साथ बांटने के विचार से सामूहिक विवाह में बेटे की शादी करने का फैसला किया है। मैं समझता हूं कि खुशियां बांटने का इससे अच्छा विकल्प और कुछ नहीं हो सकता। अन्य धनवान लोगों को इससे अच्छा मैसेज मिलेगा कि एक ही विवाह के खर्च में कई विवाह एवं गरीब तथा पिता की छत्रछाया खो चुकी बेटियों के दत्तक पिता बनने का सौभाग्य प्राप्त हो सकता है। आगामी 22 दिसंबर 2016 को मेहंदी की रस्म, 23 को परंपरागत रास-गरबा और 25 दिसंबर को फेरे होंगे।

इस घटना के बाद लिया संकल्प बात 2008 की है। सवाणी परिवार के ईश्वरभाई सवाणी की दो बेटियां मितुला, अमृता का विवाह होना था। विवाह से एक सप्ताह पहले ही ईश्वरभाई चल बसे। ईश्वरभाई के परिवार पर तो दु:खों का पहाड़ टूट पड़ा। यह चिंता भी बेटियों के हाथ कैसे पीलें होंगे? ईश्वरभाई के परिवार की मदद के लिए महेशभाई पहुंचे, बेटियों के विवाह सहित पूरी जिम्मेदारी उठाने की इच्छा जताकर इजाजत मांगी। परिवार ने रजामंदी दी । महेशभाई ने मितुला, अमृता का विवाह करवाया और खुद कन्यादान भी लिया। तब महेश को लगा कि समाज में मितुला, अमृता जैसी कई बेटियां हैं, जिनके पिता नहीं है। खुद की बेटी न होने का दुख और बिना पिता की छत्रछाया वाली बेटियों के दुख के एहसास के साथ उन्होंने तय कर लिया कि वे 1001 ऐसे बेटियों के पालक पिता बनेंगे। सिर्फ कन्यादान ही नहीं, विवाह के बाद एक पिता के रूप में अन्य सभी जिम्मेदारियां भी निभाएंगे।