क्या आपको भी आ रहा है इनकम टैक्स की तरफ से यह मैसेज? तो हो जाएं सावधान...

अगर आपको भी इनकम टैक्स के नाम से कोई मैसेज आ रहा है तो यह खबर जानना आपके लिए बहुत ही जरूरी है, क्योंक‍ि आयकर विभाग ने जनता को ऐसे मैसेज को लेकर आगाह किया है।

क्या आपको भी आ रहा है इनकम टैक्स की तरफ से यह मैसेज? तो हो जाएं सावधान...
x

नई दिल्ली: अगर आपको भी इनकम टैक्स के नाम से कोई मैसेज आ रहा है तो यह खबर जानना आपके लिए बहुत ही जरूरी है, क्योंक‍ि आयकर विभाग ने जनता को ऐसे मैसेज को लेकर आगाह किया है। आयकर विभाग ने कहा है कि प्रसारित हो रहे यह संदेश फर्जी हैं।


आयकर विभाग ने आगे लोगों को अपने व्यक्तिगत या वित्तीय विवरण साझा न करने के लिए सचेत किया, क्योंकि विभाग कभी भी इस तरह के विवरण नहीं मांगता है।


आयकर विभाग ने ट्वीट किया, ''आयकर विभाग के नाम से फैलाए जा रहे फर्जी संदेशों से सावधान रहें! कृपया अपना व्यक्तिगत या वित्तीय विवरण साझा न करें, क्योंकि विभाग कभी भी इस तरह का विवरण नहीं मांगता है।"


टैक्स डिपार्टमेंट ने PIB फैक्ट चेक से लोगों को लॉटरी घोटालों से सावधान करते हुए एक ट्वीट शेयर किया है। इनकम टैक्स इंडिया ऐसा लकी ड्रा नहीं चला रहा है।


PIBFactCheck ने ट्वीट किया, "ई-मेल और संदेश धोखेबाजों द्वारा झूठे दावे के साथ प्रसारित किए जा रहे हैं कि प्राप्तकर्ता ने लॉटरी जीती है। इस तरह के कॉल, ईमेल और संदेशों पर अपनी व्यक्तिगत या वित्तीय जानकारी साझा न करें।"


और पढ़िए – Share Market Update: शेयर बाजार में फिर लौटी रौनक, सेंसेक्स और निफ्टी दोनों में उछाल







और पढ़िए – 7th Pay Commission: केंद्रीय कर्मचारियों की आई मौज, अब बढ़ेंगे PF, Gratuity, HRA और TA




इस साल की शुरुआत में, कर निकाय ने जनता को धोखाधड़ी वाले नौकरी के प्रस्तावों के शिकार होने के खिलाफ आगाह किया और कहा कि उम्मीदवारों को केवल एसएससी या विभाग की आधिकारिक वेबसाइटों पर ऑफ़र या विज्ञापनों पर विचार करना चाहिए।


विभाग ने इस साल फरवरी में ट्वीट किया, "आयकर विभाग जनता को सावधान करता है कि वे विभाग में शामिल होने के लिए फर्जी नियुक्ति पत्र जारी करके नौकरी के इच्छुक लोगों को गुमराह करने वाले धोखेबाजों के झांसे में न आएं।"


डिजिटल ट्रांजैक्शन के बढ़ने के साथ ही साइबर क्राइम भी बढ़ा है। जालसाज यह दावा करते हुए फर्जी संदेश/ईमेल भेजते हैं कि पीड़िता ने बड़ी मात्रा में लॉटरी जीती है। एक बार जब पीड़ित को यकीन हो जाता है, तो जालसाज उस लॉटरी को प्रोसेस करने के लिए पैसे मांगता है।





और पढ़िए - बिजनेस से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

 








Click Here - News 24 APP अभी download करें

Next Story