जारी रहेगी अमरनाथ यात्रा, बुरहान की बरसी पर कश्मीर में अलर्ट


श्रीनगर(8 जुलाई): हिजबुल कमांडर बुरहान वानी की पहली बरसी पर आतंकी हमले के खतरे की बीच भी अमरनाथ यात्रा जारी रहेगी।

बता दें कि आज बुरहान की बरसी है। इसे लेकर पूरी घाटी में अलर्ट जारी किया गया है। बुरहान पिछले साल 8 जुलाई को एनकाउंटर में मारा गया था।


- खतरे को देखते हुए अमरनाथ यात्रा की सिक्युरिटी में सेंट्रल पैरामिलिट्री फोर्स के 21 हजार जवान और तैनात कर दिए गए हैं। इसमें 40 हजार जवान पहले से ही तैनात हैं।


- यूनियन होम मिनिस्टी के सेकेट्री राजीव महर्षी ने बताया कि 8 जुलाई को अमरनाथ यात्रा पर खतरे को देखते हुए सेंट्रल फोर्सेस की 214 कंपनियां भेजी गई हैं।


- राज्य सरकार ने घाटी के स्कूल-कॉलेजों में 6 जुलाई से 10 दिन की गर्मी की छुट्टी कर दी है। इसे बुरहान की बरसी पर खतरे से आशंका से जोड़कर देखा जा रहा है।


- बता दें कि इसी दौरान यहां के एक आतंकी गुट यूनाइटेड जेहाद काउंसिल (यूजेसी) ने बुरहान वानी की बरसी पर विरोध जताने का एलान किया है। पिछले साल स्कूलों में 1 से 17 जुलाई तक छुट्टी की गई थी।


- कश्मीर के इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस (आईजीपी) मुनीर अहमद खाने कहा, "लॉ एंड ऑर्डर को बनाए रखने के लिए जो भी इंतजाम जरूरी होंगे किए जाएंगे। आतंकी हमले को लेकर भी अलर्ट किया गया है।"


- हालांकि, जब उनसे पूछा गया कि क्या आतंकी हमले का कोई इनपुट मिला है, तो इस पर उन्होंने कोई सीधा जवाब नहीं दिया। उन्होंने कहा कि 

सिक्युरिटी एजेंसी हर एक खुफिया सूचना को गंभीरता से ले रही हैं।


- कश्मीर घाटी में एहतियात के तौर पर गुुरुवार रात को इंटरनेट सर्विस भी बंद की गई, लेकिन सुबह उसे बहाल कर दिया गया।