ऐसे कैसे पुलिस देगी आपका साथ, 400 से ज्यादा पुलिस स्टेशन में नहीं हैं फोन


नई दिल्ली(15 जनवरी): भारत में पुलिस प्रशासन की हालत बयां करती एक रिपोर्ट सामने आई है। पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो (BPR&D) की  रिपोर्ट में बताया गया है कि देश में पुलिस स्टेशन और पुलिसवालों के साथ-साथ उनको मिलने वाली सुविधाओं की भी भारी कमी है।


- रिपोर्ट के मुताबिक, देश में 15,555 पुलिस स्टेशन हैं। लेकिन इसमें से ज्यादातर में ना तो कोई फोन है और ना ही इधर-उधर जाने के लिए कोई गाड़ी।


- रिपोर्ट में बताया गया है कि देश में 188 ऐसे पुलिस स्टेशन हैं जिनमें कोई भी वाहन नहीं है, वहीं 402 पुलिस स्टेशन ऐसे हैं जिनमें टेलीफोन की लाइन नहीं है।


- इसके अलावा 134 के पास वायरलेस सेट नहीं है। वहीं 65 के पास ना तो वायरलेस सेट है और ना ही फोन।


- सबसे खराब हालातों वाला राज्य मणिपुर है। वहां 43 पुलिस स्टेशन ऐसे हैं जिनमें ना तो फोन है और ना ही वायरलेस सेट।


- इसके अलावा छत्तीसगढ़ से 161 पुलिस स्टेशन ऐसे हैं जिनके पास यातायात का कोई साधन नहीं है। BPRD के आंकड़ों के मुताबिक सबसे ज्यादा वाहन महाराष्ट्र की पुलिस (17,131) के पास हैं। दूसरे बाद नंबर तमिलनाडु (15,926) और तीसरे पर यूपी (13,452) है।


- जनवरी 2016 के आंकड़ों के मुताबिक, देश के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में कुल मिलाकर 22,80,691 पुलिसवाले मौजूद हैं।


- सुविधाओं के आभाव के अलावा काम का बोझ भी समस्या: पुलिस विभाग पर काम का बोझ भी काफी है। डाटा के मुताबिक, 729 लोगों पर सिर्फ एक पुलिसवाला मौजूद है।


- इससे भी खराब हालत आंध्रप्रदेश, बिहार, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, दादर और नागर हवेली और दिल्ली की है। यहां 1,100 लोगों पर एक पुलिसवाला तैनात है। ऐसे में पुलिसवालों के लिए साइबर क्राइम के अलावा आतंकवाद, संप्रदायिक दंगे और नक्सलवाद से निपटने की समस्या होती है।