Blog single photo

बुलंदशहर हिंसा: सीएम योगी आज शहीद इंस्पेक्टर सुबोध कुमार के परिजनों से करेंगे मुलाकात

बुलंदशहर में सोमवार को शहीद हुए इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह के परिवार से सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज मुलाकात करेंगे। सुबोध के परिजन लगातार योगी आदित्यनाथ से मिलने की मांग कर रहे थे

न्यूज 24 ब्यूरो, मुंबई (6 अक्टूबर): बुलंदशहर में सोमवार को शहीद हुए इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह के परिवार से सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज मुलाकात करेंगे। सुबोध के परिजन लगातार योगी आदित्यनाथ से मिलने की मांग कर रहे थे। मुख्यमंत्री गुरुवार सुबह इंस्पेक्टर सुबोध कुमार के परिजनों से लखनऊ से मुलाकात करेंगे। बताया जा रहा है कि सीएम योग लखनऊ में 5 कालीदास मार्ग स्थित अपने आवास पर सुबोध कुमार के परिजनों से मुलाकात करेंगे। आपको बता दें कि सोमवार को बुलंदशहर के चिंगरावठी पुलिस चौकी पर भीड़ की हिंसा के बाद इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या कर दी गई थी।

मंगलवार को जब इंस्पेक्टर सुबोध कुमार का शव उनके आवास एटा पहुंचा तो पारिवारिक सदस्यों ने सरकार और सीएम पर नाराजगी जताई थी। यही नहीं परिजनों ने सीएम योगी के न आने और शहीद का दर्जा न दिए जाने तक अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया था। पुलिस अधिकरियों की मान-मनौवल के बाद इंस्पेक्टर सुबोध के परिजन राजी हो गए। सीएम योगी आदित्यनाथ छत्तीसगढ़ के सीएम रमन सिंह के साथ गोरखपुर में मौजूद थे। हालांकि घटना की जांच पर नजर बनाए थे। उन्होंने एसआईटी के गठन का आदेश देकर दो दिन में रिपोर्ट मांगी थी जो कि आज शाम तक पेश होगी।  बताया जा रहा है कि इस रिपोर्ट के आने के बाद पुलिस के कई बड़े अधिकारियों पर गाज गिर सकती है। एसआईटी की जांच रिपोर्ट आज रात तक मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सौंपी जानी है, जिस पर मीडिया के साथ-साथ पुलिस अफसरों की भी नजर है।

इंस्पेक्टर सुबोध की बहन मनीषा ने पुलिस पर बेहद संगीन आरोप लगाते हुए कहा था कि मेरे भाई की हत्या अखलाक केस की जांच करने के चलते की गई है। उनकी हत्या में पुलिस भी शामिल है। इंस्पेक्टर की बहन मनीषा ने गंभीर सवाल उठाते हुए कहा था कि मेरे भाई को अकेला क्यों छोड़ा गया? उन्होंने सवाल किया था कि भाई के साथ मौजूद दरोगा और ड्राइवर भाई को अकेला छोड़कर कहां चले गए थे? इंस्पेक्टर की बहन ने कहा था कि गोरक्षा के नाम पर मुख्यमंत्री योगी सिर्फ बातें कर रहे हैं। वे खुद क्यों नहीं गोरक्षा करके दिखाते हैं? उन्होंने मांग की थी कि मेरे भाई को शहीद का दर्जा दिया जाए। एटा के पैतृक गांव में उनका शहीद स्मारक बनाया जाए। सुबोध की बहन ने कहा कि हमारे पिता भी ऐसे ही ड्यूटी करने के दौरान गोली लगने से शहीद हुए थे। हम लोग बहुत बहादुर हैं। उन्होंने सीएम योगी से मांग की थी कि वे उनके परिवार से आकर मिलें।

उधर बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने बुलंदशहर हिंसा को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा, 'मामले में एसआईटी का गठन कर दिया है और वह जांच कर रही है। इसका राजनीतिकरण नहीं होना चाहिए। एसआईटी की रिपोर्ट सामने आने के बाद सब कुछ स्पष्ट हो जाएगा।' बता दें कि बुलंदशहर हिंसा का मुख्य आरोपी योगेश राज अभी भी फरार है जो बजरंग दल का जिला संयोजक है। हालांकि एडीजी लॉ ऐंड ऑर्डर आनंद कुमार ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में योगेश राज के संगठन का नाम नहीं लिया था।

Tags :

NEXT STORY
Top