योगी ने बुलंदशहर हिंसा को मॉब लिंचिंग मानने से किया इंकार

Photo: NEWS 24


न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (8 दिसंबर): उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में बीते दिनों हुई घटना को भीड़ की हिंसा यानी मॉब लिंचिंग मानने से यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इनकार कर दिया। बुलंदशहर हिंसा में पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हत्या पर चुप्पी तोड़ते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने बुलंदशहर की घटना को महज एक दुर्घटना करार दिया।

कल एक अखबार के कार्यक्रम में सीएम योगी ने ये बातें कही। योगी ने ये भी कहा कि भीड़ द्वारा हत्या करने की कोई घटना उनके समय में नहीं घटी है। दरअसल बीते सोमवार को बुलंदशहर में गोकशी के शक में भड़की भीड़ की हिंसा में पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह और सुमित नाम के एक युवक की जान चली गई थी। भले ही योगी बड़ी-बड़ी बात कर रहे हो, लेकिन 5 दिन बाद भी बुलंदशहर हिंसा का मास्टमाइंड योगेश राज फरार है। पुलिस अबतक योगेश तक नहीं पहुंच पाई।

इसके अलावा इंस्पेक्टर सुबोध कुमार की हत्या करने वाले सेना के जवान जीतू STF ने हिरासत में लिया है। बताया जा रहा है कि जीतू हिंसा के कुछ दिन पहले ही छुट्टी लेकर घर आया था, उसकी पोस्टिंग कारगिल में हैं और वह हादसे के बाद वापस चला गया था। वीडियो देखने के बाद जीतू की पहचान हो सकी, जिसके बाद एसटीएफ की टीम ने सेना से संपर्क साधा। सेना से बात करने के बाद एसटीएफ जीतू को गिरफ्कार करने पहुंची और उसको हिरासत में ले लिया गया है। एसटीएफ की टीम जीतू को लेकर दिल्ली रवाना हो चुकी है और कल सुबह बुलंदशहर पहुंचेगी।

वहीं खबर आ रही है कि बुलंदशहर हिंसा के बाद योगी सरकार ने कार्रवाई करते हुए स्याना के सीओ सत्य प्रकाश शर्मा और चिंगरावटी के चौकी इंचार्ज सुरेश कुमार को हटा दिया है। एडीजी इंटेलिजेंस की शुरुआती रिपोर्ट आने के बाद दोनों पर यह कार्रवाई की गई है।