Blog single photo

आज जरूर करें इस मंत्र का जाप, विघ्नहर्ता दूर करेंगे आपके सारे कष्ट

हर दिन खास होता है और इसका अपना विशेष महत्व होता है। बुधवार का जहां बुध ग्रह से संबंध माना जाता है वहीं शास्त्रों में बुधवार का दिन भगवान शिव जी के पुत्र भगवान गणेश को समर्पित है।

ganapati

(Image Credit: Google) 

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (30 अक्टूबर): हर दिन खास होता है और इसका अपना विशेष महत्व होता है। बुधवार का जहां बुध ग्रह से संबंध माना जाता है वहीं शास्त्रों में बुधवार का दिन भगवान शिव जी के पुत्र भगवान गणेश को समर्पित है। शास्त्रों में ऐसे कई उपाय हैं जो गणेश जी को प्रसन्न करने के लिए बुधवार किए जाते हैं। बुधवार को यदि कुछ शास्त्रीय उपाय किए जाएं तो भगवान गणेश की कृपा पाई जा सकती है।

मान्यता के मुताबिक बुधवार को विध्नहर्ता यानी भगवान गणेश की पूजा करने से विशेष लाभ होता है। इस दिन 'गं हं क्लौं ग्लौं उच्छिष्टगणेशाय महायक्षायायं बलिः' मंत्र के जाप से सारे कष्ट दूर होते हैं और व्यक्ति की आर्थिक स्थिति भी बहुत अच्छी हो जाती है।

बुधवार को करें ये काम...

-  एक अमरूद का पौधा लेकर श्री गणेश के मंदिर में जाएं। मंदिर में श्री गणेश के चरणों में देसी घी का दीपक जलाएं। इसके बाद अमरूद के पौधे को घर में लाकर किसी मिट्टी के गमले में लगा दें। आने वाले दिनों में इस पौधे की देखभाल करें, समय से पानी दें और सूखने न दें। जैसे ही इस पौधे पर पहला फल आए तो उस फल को श्री गणेश के मंदिर में अर्पित कर दें। ऐसा माना जाता है कि फल का चढ़ावा करने के बाद गणपति जी जातक के सभी दुख खत्म कर देते हैं। मान्यता है कि जब तक पौधे पर फल नहीं आते हैं, तब तक ही जातक को धन की समस्या रहती है। जैसे ही वह पहला अमरूद श्री गणेश के चरणों में चढ़ाता है, उसके आने वाले समय के सभी कष्ट खत्म होने लगते हैं।

- लेकिन केवल धन संबंधी समस्याएं समाप्त करने के साथ-साथ किसी जातक को धन की ज्यादा लालसा हो, तो उसे इस पेड़ का फल रोज श्री गणेश जी के मंदिर में जाकर चढ़ाना चाहिए और साथ ही उपरोक्त दिव्य मंत्र का जाप भी करें।

- यही उपाय सौन्दर्य पाने के लिए भी किया जाता है। इस उपाय से सौन्दर्य पाने के लिए इस पौधे के तने में एक हरे रंग का कपड़ा बांध दें और हर बुधवार इस कपड़े को दूध के बर्तन में रख दें और श्री गणेश जी के मंदिर मे जाकर श्री गणेश जी के चरणों में निचोड़ दें। ऐसा करने से पूर्ण सौन्दर्य प्राप्त होगा।

Tags :

NEXT STORY
Top