संसद चर्चा के लिए है, हंगामे के लिए नहीं- राष्ट्रपति

नई दिल्ली (23 फरवरी): मंगलवार को संसद का बजट सत्र शुरू हो रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद के बजट सत्र के आगाज से पहले कहा कि बजट सत्र पर देश ही नहीं , सारी दुनिया की निगाहें है। पीएम का कहना था उन्हें उम्मीद है कि संसद के समय का सदुपयोग होगा और सार्थक चर्चाएं होगीं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ये भी कहा कि सरकार की आलोचना भी होनी चाहिए। सरकार की गलतियां भी उजागर होनी चाहिए। और सरकार की कमी भी बताई जानी चाहिए। 

इधर, राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी बग्घी पर सवार होकर संसद पहुंचे। राष्ट्रपति ने अभिभाषण में कहा कि सरकार का पहला लक्ष्य है 'सबका साथ सबका विकास'। इस दौरान राष्ट्रपति ने सरकार के रोडमैप को सामने रखा। अंत में उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने कहा - मैं संसद के सभी सदस्यों से अनुरोध करता हूं कि वे अपने उत्तरदायित्वों का निर्वहन करें।

क्या बोले राष्ट्रपति > संसद मे चर्चा हो, हंगामे के लिए जगह नहीं। > संसद में गतिरोध नहीं बहस हो। > 48 अन्य देशों के लोगों को भी वहां से निकाला। > ऑपरेशन राहत के तहत भारत ने यमन से 4748 लोगों को बचाया। > सरकार की नीति 'वसुधैव कुटुम्बकम्' पर आधारित। > सरकार अपने पड़ोसियों की भलाई चाहती है। > नेपाल भूकंप में भारत नें बड़ा योददान दिया। > 50 देशों ने इंटरनेशनल फ्लीट रिव्यू में हिस्सा लिया।​ > सरकार ने बांग्लादेश के साथ जमीन विवाद खत्म किया। > देश में हथियार बनाने के काम पर सरकार तेजी दिखा रही है। > 'वन रैंक, वन पेंशन' के लिए 7,000 करोड़ रुपये दिए गए। > सरकरा वन रैंक, वन पेंशन लागू करेगी। > महिलाएं बनेंगी फाइटर पायलट। > 18000 गांवों में बिजली पहुंचाने की कोशिश। > पठानकोट हमले में सेना ने बहादुरी से काम किया है। > आतंकवाद वैश्विक खतरा है। > काला धन कानून पर अच्छे नतीजे आ रहे हैं। > मोबाइल हैंडसेट का उत्पादन दोगुना हुआ। > 2015 में सॉफ्टवेयर्स का रेकॉर्ड निर्यात हुआ। > 10 साल बाद 23 बैंकिंग लाइसेंस जारी किए गए। > भारत सबसे तेज उभरती हुई अर्थव्यवस्था बना। > 7200 किमी हाईवे का निर्माण हुआ। > महंगाई और राजकोषीय घाटे में कमी आई। > 1.55 करोड़ पोस्टऑफिस ऑनलाइन होंगे। > ट्रेन के नए कोच में बायो टॉयलेट लगाए जा रहे हैं। > पूरी पार्दर्शिता के साथ 70 कोयला खादानों की सफल निलामी हुई। > गंगा किनारो बसे गांवों में सफाई अभियान चलाया गया। > स्मार्ट सिटी के लिए 20 शहरों का चुनाव हो चुका है। > सरकार ने जलक्रांती योजना, स्मार्ट सिटी योजना शुरू की। > छोटे पदों के लिए इंटरव्यू खत्म किए। > प्राइमरी स्कूलों में पिछले 18 महीनों में 4 लाख से ज्यादा टॉयलेट्स बनाए गए हैं।  > गंगा किनारे बसे 118 शहरों में स्वच्छता अभियान। > 2015 में बच्चों को सबसे ज्यादा टीके लगे। > 'स्किल इंडिया' में 76 लाख लोगों को ट्रेनिंग। > पूर्वोत्तर राज्यों में कृषि पर जोर दिया जा रहा है। > 2015-16 में ग्रामीण विकास के लिए 2 लाख करोड़ दिए। > मेक इन इंडिया से देश में 39 फीसदी निवेश बढ़ा। > मुद्रा योजना के तहत एक लाख करोड़ के लोन दिए गए। > युवाओं को रोजगार देना सरकार की प्राथमिकता है।  > 33 प्रतिशत फसल नुकसान पर मुआवजा दिया जाएगा। > कम प्रीमियम पर फसल की सुरक्षा मिलेगी। > ऑर्गेनिक खेती के विकास के लिए विशेष योजना बनाई गई। > किसानों के लिए 24 घंटे का चैनल बनाया। > बैंक अकाउंट खुलने से गरीबी कम होने की उम्मीद। 4.45 लाख घर बनाने के लिए 24,600 करोड़ का फंड। > सरकार का 2022 तक सभी को घर देने का लक्ष्य। जन-धन योजना से 32 हजार करोड़ जुटे। > मदरसे में छात्रों को रोजगार की ट्रेनिंग दिया जा रहा है। > गैस सब्सिडी 62 लाख लोगों ने छोड़ी। > सरकार ने तीन बीमा योजना शुरू किया, जिससे गरीबों और पिछड़े लोगों को लाभ मिला। > गरीब, शोषित और पिछड़ों की मदद के लिए सरकार है। > गरीबों को बीमा, पेशन योजना से मिला लाभ। > हमारा मकसद गरीबों तक विकास पहुंचाना है। > गरीबी हिंसा का सबसे बिगड़ा रूप। > मेरी सरकार 2022 तक सबको घर देना चाहती है। > 2015 में पीएम आवास योजना लॉन्च की गई। > पिछले साल हमने जनधन योजना का ऐलान किया था। इस साल तक ये योजना सबसे सफल साबित हुई है। > संसद में राष्ट्रपति ने कहा- सरकार का पहला लक्ष्य 'सबका साथ सबका विकास'।

पीएम मोदी ने कहा- दुनिया की नजरें सत्र पर > थोड़ी देर में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का भाषण होगा।     > राष्ट्रपति पहुंचे संसद भवन। उनके साथ उपराष्ट्रपति भी मौजूद। > मोदी ने कहा कि सभी दलों से पिछले दिनों से विचार-विमर्श चल रहा है। देश के सामान्य नागरिकों की आशाओं, चिंताओं पर गहन चिंतन होगा। > मोदी ने कहा दुनियाभर की नजरें हमारे बजट सत्र पर। > पीएम मोदी पहुंचे संसद भवन। > संसद के लिए रवाना हुए राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी। > संसदीय कार्य मंत्री वेंकैया नायडू ने कहा कि सरकार हर मुद्दे पर चर्चा के लिए तैयार।