हलवा सेरेमनी के साथ शुरु हुई बजट 2018 की प्रक्रिया

नई दिल्ली(20 जनवरी): बजट 2018-19 के दस्‍तावेजों की प्रिंटिंग की प्रक्रिया 20 जनवरी को हलवा सेरेमनी की रस्‍म के साथ शुरू हो गई। केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने शनिवार को हलवा सेरेमनी में वित्त मंत्रालय के अधिकारियों को हलवा खिलाकर बजट की प्रक्रिया की शुरुआत की।

-  इस मौके पर वित्त मंत्रालय के तमाम वरिष्ठ अधिकारी और कर्मचारी मौजूद रहे। 

- इसी के साथ प्रिंटिंग प्रेस के तमाम कर्मचारियों समेत वित्त मंत्रालय के 100 अधिकारियों को बजट पेश होने तक नजरबंद कर दिया जाएगा। इस बार केंद्र सरकार 1 फरवरी को आम बजट पेश करेगी। 

ऐसी है पूरी प्रक्रिया...

- हलवा सेरेमनी वास्तव में बजट प्रक्रिया के अंतिम लेकिन सबसे अहम चरण की शुरुआत है और इसका अंत वित्त मंत्री के बजट भाषण से होता है।

- भारतीय परंपरा के अनुसार किसी भी शुभ काम की शुरुआत मीठे के साथ होती है यह पुरानी परंपरा रही है, जो बजट की प्रिंटिंग की शुरुआत में होती है। इस मौके पर वित्त मंत्री खुद प्रिटिंग से जुड़े कर्मचारियों और अधिकारियों को हलवा बांटकर प्रिंटिंग प्रोसेस की औपचारिक शुरूआत करेंगे।

- बजट की प्रिंटिंग भारत के सबसे गुप्त ऑपरेशंस में एक मानी जाती है। बजट से जुड़ी जानकारियां काफी अहम होती हैं और इनके लीक होने से सरकार पर सवाल खड़े हो सकते हैं।

-  हलवा सेरेमनी के साथ ही बजट की प्रिंटिंग से जुड़े कर्मचारी अगले कुछ दिनों तक दुनिया भर से अलग-थलग रहते हैं। इस दौरान वे न किसी से मिल सकते हैं न ही किसी से बात कर सकते हैं, यहां तक कर्मचारी अपने परिवार से भी बात नहीं करते हैं। बेसमेंट में सिर्फ एक लैंडलाइन रखा जाता है, जिसमें सिर्फ इनकमिंग कॉल सुविधा रहती है। इसके साथ ही चुनिंदा अधिकारियों के अलावा यहा किसी को भी आने की अनुमति नहीं होती।