हर वर्ष बजट पेश करने की क्या जरुरत, क्या पिछले साल ऐलान की गई योजनाएं पूरी हो गईं: उद्धव ठाकरे

नई दिल्ली ( 1 फरवरी ): शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने बजट के बाद कहा कि हर वर्ष बजट पेश करने की जरुरत ही क्या है, क्या पिछले साल ऐलान की गई योजनाएं पूरी हो गई है।

उन्होंने कहा कि नोटेबंदी की वजह से लोगों को जो तकलीफ हुई उसकी भरपाई नहीं हो सकती, नोटेबंदी की वजह से सरकार के पास टैक्स के रूप में बड़ी रकम जमा हुई ऐसा बताया जा रहा है, लेकिन बड़े कर्ज के डिफॉल्टर्स को हाथ नहीं लगाया गया और सरकार ने आम लोगो के जेब में हाथ डाला है। नोटेबंदी की जानकारी पिछले बजट में क्यों नहीं दी।

पिछले साल की गई घोषणाएं पूरी नहीं हुई हैं फिर इस बजट का क्या मतलब। जनता से किए गए वादे पूरे नहीं हो रहे हैं। फिर हर साल बजट पेश करने की क्या जरुरत है?