भारत में करोड़पति तेजी से बढ़ रहे हैं लेकिन टैक्सपेयर्स नहीं, कौन हैं देश के टैक्स चोर, जानिए...

डॉ. संदीप कोहली,नई दिल्ली (1 फरवरी): वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बुधवार को वर्ष 2017-18 का आम बजट पेश करते समय एक कड़ी टिप्पणी की... भारत में टैक्स चोरी एक जीवन पद्धति बन चुकी है, हम मोटे तौर पर टैक्स न देने वाला समाज हैं, जब बहुत सारे लोग टैक्स चुराते हैं तो इसका खमियाजा ईमानदार लोगों को भुगतना पड़ता है... अरूण जेटली की यह टिप्पणी देश के उन टैक्स चोरों पर थी जो हमारे समाज में सफेदपोश, इज्जतदार नागरिकों की तरह रहते हैं लेकिन देश को टैक्स ना देकर सबसे बड़ा जुर्म कर रहे हैं... भारत की 125 करोड़ से ज्यादा की आबादी है लेकिन उसमें से सिर्फ 3 करोड़ 70 लाख लोग आयकर रिटर्न भरते हैं... अगर वित्त विभाग के आंकड़ों पर नजर डालें तो पता चलता है कि भारतीयों द्वारा दिए जाने वाले टैक्स के आंकड़े उनकी आमदनी और खर्च के आंकड़ों से मेल नहीं खाते... पिछले पांच सालों में देश में 1 करोड़ 25 लाख कारें बिकी हैं... यही नहीं साल 2015 में पर्यटन कारोबार पर नजर डालें तो विदेश जाने वाले भारतीयों की संख्या दो करोड़ थी...

देश में कितने लोग देते हैं टैक्स...

    *देश में 3.7 करोड़ लोग आयकर रिटर्न दाखिल करते हैं।

    *इनमें 99 लाख लोग अपनी आमदनी 2.5 लाख रुपये से कम दिखाते हैं, यानी वे आयकर के दायरे से बाहर हैं।

    *1.95 करोड़ लोग अपनी आमदनी 2.5 लाख रुपये से 5 लाख रुपये के बीच दिखाते हैं।

    *52 लाख लोग 5 लाख रुपये से 10 लाख रुपये के बीच दिखाते हैं।

    *सिर्फ 24 लाख अपनी आमदनी 10 लाख रुपये से अधिक दिखाते हैं।

    *76 लाख individual assesses ने अपनी आय 5 लाख से ज्यादा दिखाई, इसमें से 56 लाख salaried class हैं

    *50 लाख रुपये से अधिक की आमदनी दिखाने वालों की संख्या सिर्फ 1.72 लाख है जबकि कारों की बिक्री तथा विदेश यात्रा के आंकड़े काफी ज्यादा हैं।

टैक्सपेयर्स नहीं बढ़े लेकिन लक्जरी कारें खरीदने वाले बढ़ गए...

    *साल 2016 में सामान्य कारों और लक्जरी कारों की बिक्री बड़ी है

    *BMW, जगुआर लैंड रोवर और वॉल्वो की ग्रोथ सामान्य रही, मर्सेडीज की बिक्री बड़ी।

    *लक्ज़री कारों के बाजार में Demonetisation का कोई खास फर्क नहीं पड़ा।

    *2015 में जहां 36,000 गाड़ियां बिकी थीं, वहीं 2016 में सिर्फ 35,000 गाड़ियां बिकने की सम्भावना है।

    *नोटबंदी के बाद कमजोर धारणा के बावजूद दिसंबर 2016 में इससे पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले कहीं अधिक खरीदारों ने कार खरीदी।

    *यात्री कारों (कार, वैन एवं यूटिलिटी व्हीकल्स) की थोक बिक्री में 1.3 फीसदी की गिरावट के विपरीत खुदरा बिक्री में से अधिक की बढ़त दर्ज की गई।

    *निसान इंडिया की बिक्री 21 फीसदी बढ़ी, रेनो 9.5 और टाटा मोटर्स की 35 फीसदी की सेल्‍स बढ़ी, मारुति‍ सुजुकी इंडि‍या की सेल्‍स 25.9 फीसदी बढ़ी है।

देश में अरबपतियों और करोड़पतियों की संख्या में जरूर इजाफा हुआ...

    *देश में कुल 84 अरबपति है जिनके पास कुल मिलाकर 248 अरब डॉलर की संपत्ति है.

    *67 रुपये प्रति डॉलर के लिहाज से ये रकम 16 लाख 61 हजार 600 करोड़ रुपये बनती है.

    *वही देश में निचली 70 फीसदी आबादी के पास कुल मिलाकर 216 अरब डॉलर यानी 14 लाख 47 हजार 200 करोड़ रुपये की कुल संपत्ति है.

    *देश के निचले 70 फीसदी आबादी के बराबर की संपत्ति सिर्फ 57 अरबपतियों के पास है.

    *एशिया प्रशांत क्षेत्र में करोड़पतियों की संख्या के मामले में भारत चौथे स्थान पर है.

    *न्यू वर्ल्ड वेल्थ की एशिया प्रशांत 2016 संपदा रिपोर्ट के अनुसार में 2.36 लाख करोड़पति हैं।

    *इन करोड़पतियों में से हरएक के पास है 10 लाख डॉलर से ज्‍यादा की संपत्ति है।