अब कोई भी मूर्ति नहीं, सारा ध्यान होगा प्रदेश के विकास पर: मायावती

लखनऊ(15 जनवरी): बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती 61वें जन्मदिन के मौके पर रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित कर रही हैं। उत्तर प्रदेश चुनाव की तैयारियों में जुटी मायावती पहले ही अपने 401 उम्मीदवारों की घोषणा कर चुकी हैं।

- मायावती ने इस मौके पर बसपा के ब्लू बुक के बारहवे भाग का विमोचन किया, साथ ही उन्होंने पार्टी का कैलेंडर भी जारी किया। मायावती के जन्मदिन को बसपा जन कल्याणकारी दिवस के रूप में मनाती है।

मायावती ने अपने प्रेस कॉन्फ्रेंस में क्या कहा

- यदि चुनाव में उत्तर प्रदेश के लोगों ने सभी सावधानी बरतते हुए बसपा को चुना तो यही मेरे लिए जन्मदिन का सबसे बड़ा उपहार होगा

- यूपी में सपा-बीजेपी की अंदरुनी मिलीभगत है, अखिलेश सरकार में मुजफ्फरनगर दंगे और दादरी कांड हुए

- बीजेपी शासित राज्यों की हालत बेहद खराब, बीजेपी की नीतियों से दलितों का कल्याण नहीं होगा। कालेधन और भ्रष्टाचार की आड़ में नोटबंदी की गई

- 8 नवंबर के बाद से बीजेपी अपना हिसाब दे। बीजेपी नेता कहते कुछ और हैं और करते उल्टा हैं

- एसपी सरकार में कई दागी चेहरे। गुंडो माफियाओं की पार्टी है समाजवादी पार्टी: मायावती

- यूपी में गुंडो की सरकार चल रही है। समाजवादी पार्टी एक खास वर्ग की पार्टी है

- सर्वे और ओपिनयन पोल धन के बल पर विरोधी कराते हैं। बड़ी कीमत चुकाने के लिए बीजेपी तैयार रहे

- बीजेपी आरक्षण खत्म करने की साजिश कर रही है। चुनाव में आम जनता इन्हें जवाब देगी

- बीजेपी सरकार में अल्पसंख्यकों और दलितों का उत्पीड़न बढ़ा है। बीएसपी पर जातिवादी का आरोप गलत है।

- बीजेपी के शासन में रोहित वेमुला कांड को नहीं भूला सकते। दलित वर्गों को संविधान के मुताबिक मिले अधिकारों को खत्म करने की आरएसएस की कोशिश हो रही है।

- नोटबंदी के दौरान पकड़े गए पैसों का हिसाब दें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

- देश की 90 फीसदी जनता नोटबंदी से परेशान, अब आलम ये है कि नरेंद्र मोदी के हर भाषण, बजट से पहले जनता सहम जाती है कि अब पता नहीं आगे क्या हो

- बीजेपी की दलित विरोधी मानसिकता सामने आ गई है। मेरे खिलाफ जानबूझकर अनर्गल बातें फैलाई जा रही हैं। लेकिन बीजेपी के हथकंडे अब बीएसपी के लिए फायदेमंद नजर आ रहा है

- गलत झूठे, तथ्यहीन और अनापशनाप बातें फैलाने की कोशिश हो रही है। चुनाव के नजदीक ही मेरे परिवार पर इन्हें आरोप लगाने का मौका मिला। बीजेपी की सरकार ढाई साल से है, लेकिन अगर गड़बड़ी थी तब बीजेपी एंड कंपनी ने तभी कुछ क्यों नहीं किया।

- जबरदस्ती बीएसपी के पैसों को काला धन बताया गया। राष्ट्रवाद की आड़ में लोगों को भटकाने की कोशिश हो रही है।

- यूपी की जनता विरोधियों को गंभीरता से नहीं लेती। बीजेपी का 15 लाख रुपये देने का वादा गायब हो गया

- मोदी सरकार ने अपने वादे का एक चौथाई काम भी पूरा नहीं किया

- बहुजन समाज पार्टी अपने दम पर लड़ रही है चुनाव

- मेरा जन्मदिन शाही तरीके से नहीं मनाया जाता, चुनाव वाले राज्यों में सादगी के साथ मेरा जन्मदिन मनाया जा रहा है

- आचार संहिता की वजह से जरूरतमंद लोगों की मदद नहीं कर पा रहे हैं: मायावती

- चुनाव वाले राज्यों में बीएसपी सादगी से मेरा जन्मदिन मना रही है

- चुनाव में लोगों को प्रलोभन देकर भटकाने की कोशिश हो रही है