BSP नेता समेत 6 की हत्या का खुला राज, कातिल बेनकाब

नई दिल्ली (23 मई): दिल्ली-एनसीआर की सबसे बड़ी मर्डर मिस्ट्री का राज खुल गया है। BSP नेता और  प्रॉपर्टी डीलर मुनव्वर हसन, उनकी पत्नी और चार बच्चों की बेरहमी से हत्या के आरोप में दिल्ली पुलिस ने 4 लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक मुनव्वर का सबसे अजीज और भरोसेमंद दोस्त शाहिद उर्फ बंटी ही इस 'सामूहिक नरसंहार' का मास्टरमाइंड है। बुरारी पुलिस के मुताबिक शाहिद ने पूछताछ में खुलासा किया है कि उसने अपने दोस्तों के साथ मिलकर मुनव्वर और उसके पूरे परिवार का टुकड़ों में कत्ल किया। उसने 90 दिनों में 6 हत्याएं करके पूरे परिवार का सफाया कर दिया। गिरफ्तार आरोपियों में बंटी के अलावा उसका दोस्त दीपक, कॉन्ट्रैक्ट किलर फिरोज और जुल्फिकार हैं। अभी दो और आरोपियों की तलाश की जा रही है।

दरअसल शाहिद BSP नेता मुनव्वर के साथ प्रॉपर्टी के कारोबार में पार्टनर था। उसी ने पूरी योजना के साथ सिलसिलेवार तरीके से हत्याओं को इस वारदात को अंजाम दिया। शाहिद ने अपने 5 अन्य साथियों की मदद से सबसे पहले मुनव्वर की पत्नी और उनकी दो बड़ी बेटियों की हत्या करके लाशों को मेरठ के दौराला गांव के पास ठिकाने लगाया। उसके बाद मुनव्वर के दो छोटे बेटों की गला घोंटकर हत्या कर दी और बुराड़ी के संत नगर में ही एक पुराने मकान के ग्राउंड फ्लोर पर बनी दुकान में गहरा गड्ढा कर दफना दिया। फिर उसके ऊपर से आरसीसी का पक्का लेंटर डलवा दिया।

पुलिस के मुताबिक 20 लाख रुपये और प्रॉपर्टी पर कब्जे के इरादे से उसने इस सामूहिक हत्याकांड को अंजाम दिया। मूल रूप से सहारनपुर निवासी मुनव्वर हसन पिछले करीब 15 साल से पत्नी सोनिया उर्फ इशरत, बेटे आकिब, शाकिब और दो बेटियों आरजू और आर्शी के साथ भगत कॉलोनी में रहते थे। शाहिद अपनी पत्नी और बच्चों के साथ बुराड़ी के संत नगर में रहता है। पूछताछ में आरोपी बंटी ने बताया कि मुनव्वर ने उससे 20 लाख रुपये ले रखा था। बार-बार मांगने के बाद भी उसे रुपये वापस नहीं कर रहा था। साथ ही मुनव्वर ने उसके एक फ्लैट पर भी कब्जा कर लिया था।

इन सबके बीच इसी साल 19 जनवरी को एक रेप केस में मुनव्वर हसन को गिरफ्तार कर तिहाड़ जेल भेजा गया था। जिसके बाद उसने हत्या की इस खौफनाक साजिश का प्लान बनाया। मुनव्वर की पत्नी और बच्ची की हत्या के बाद शाहिद उसकी हत्या का प्लान बना रहा था। इसी बीच लापता पत्नी और बच्चों की तलाश के लिए मुनव्वर पैरोल पर जेल से बाहर आया। जिसके बाद शाहिद ने उसे के घर में गोली मारकर उसकी हत्या कर दी। शनिवार को मुनव्वर की लाश उसके घर की पहली मंजिल पर बने कमरे से बरामद की गई थी।