सपा को मायावती का झटका, उपचुनावों से दूर रहेगी बीएसपी

नई दिल्ली(27 मार्च): गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव में शानदार जीत के बाद यूपी में महागठबंधन के लिए प्रयासरत समाजवादी पार्टी को तगड़ा झटका लगा है। सोमवार को मायावती ने कहा कि उनकी पार्टी लोकसभा चुनाव में तो एसपी के साथ लड़ेगी लेकिन उपचुनावों में बीएसपी काडर उस तरह से सक्रिय नहीं रहेगा जैसा कि वह गोरखपुर-फूलपुर उपचुनावों में था।

- गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा के उपचुनावों में मिली जीत के बाद उत्साहित एसपी यह उम्मीद कर रही थी कि उसे आगामी कैराना लोकसभा और नूरपुर विधानसभा के उपचुनावों में भी बीएसपी का साथ मिलेगा और वह भारतीय जनता पार्टी को हराने में कामयाब हो सकेगी। मायावती के इस बयान से यह संकेत मिलता है कि एसपी को अब उपचुनावों में अकेले ही उतरना पड़ेगा। 


- बीएसपी के जिला ओर जोनल कोऑर्डिनेटर्स की मीटिंग के बाद मायावती ने कहा, 'जिस प्रकार बीएसपी का काडर गोरखपुर और फूलपुर के चुनावों में सक्रिय था, वैसा आगामी उपचुनावों में नहीं दिखेगा।' 

- आपको बता दें कि एसपी के समर्थन के बावजूद बीएसपी उम्मीदवार भीमराव आंबेडकर चुनाव नहीं जीत पाए थे। 

- राज्यसभा चुनाव में हार के बाद मायावती ने एसपी के प्रयासों के प्रति संतोष तो व्यक्त किया लेकिन एसपी प्रमुख अखिलेश यादव को राजनीतिक रूप से अपरिपक्व बताते हुए कहा था कि अखिलेश निर्दलीय विधायक राजा भैया के जाल में फंस गए। उन्होंने यह भी कहा, 'अगर मैं अखिलेश की जगह होती तो पहली प्राथमिकता बीएसपी के उम्मीदवार को देती।'