कॉल ड्राप रोकने के लिए लगेंगे 21 हजार टॉवर

नई दिल्ली (1 अगस्त): अगर आपके पास बीएसएनएल का सिम कॉर्ड है और आप उसके सिग्नल को लेकर काफी परेशान होते रहते हैं तो यह खबर आपके लिए खुशखबरी भरी हो सकती है। क्योंकि भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) 7,000 करोड़ की लागत से 21,000 नए मोबाइल टावर्स लगाने का ऐलान किया है, ताकि सर्विस से जुड़ीं तमाम शिकायतें दूर की जा सकें।

बीएसएनएल तीन स्तरीय रणनीति पर काम कर रहा है, जिनमें ज्यादा कॉल ड्रॉप वाले नॉर्थ ईस्ट समेत सभी सर्कल्स में नेटवर्क के विस्तार, ड्राइव टेस्ट्स लेने और नेटवर्क ऑप्टिमाइजेशन के अलावा प्राइवेट कंपनियों के साथ इन्फ्रास्ट्रक्चर साझा करना भी शामिल है ताकि आगे जाकर नेटवर्क की समस्या से छुटकारा दिलाकर ग्राहकों को बेहतर सुविधा दी जा सके। बीएसएनएल वोडाफोन इंडिया और भारतीय एयरटेल के साथ इंट्रा-सर्कल रोमिंग डील्स को औपचारिक तौर पर फाइनल करने जा रहा है।

बीएसएनएल के चेयरमैन अनुपम श्रीवास्तव ने ईटी से कहा, 'हम रेडियो नेटवर्क्स में 7,000 करोड़ रुपये निवेश करने और सभी लाइसेंस्ड एरियाज में 21,000 नए मोबाइल टावर्स लगाने की प्रक्रिया में हैं जो अपने आप में सर्विस सुधार पर बड़ा खर्च है।' टेलिकॉम रेग्युलेटर ट्राइ के इस अप्रैल के आंकड़ों के मुताबिक, देश के कुल 1अरब 3 करोड़ कन्जूयमर्स में बीएसएनएल का 9% हिस्सा है।