BSF के टॉपर कश्मीरी नबील वानी को आतंकियों से मिल रही है जान की धमकी

नई दिल्ली ( 16 मई ): कश्मीर घाटी में लेफ्टिनेंट उमर फयाज की हत्या के बाद जम्मू से असिस्टेंट कमांडेंट नबील अहमद वानी ने सरकार को पत्र लिखकर आरोप लगाया है कि आतंकवादी उन्हें और उनकी बहन को धमकी दे रहे हैं। भर्ती परीक्षा में कश्मीरी टॉपर बीएसएफ के सहायक कमांडेंट नबील अहमद ने सरकार को पत्र लिखकर आतंकियों से मिल रही धमकी की जानकारी दी है।


उन्होंने अपनी बहन निदा राफिया के लिए छात्रावास की सुविधा मांगी है। जम्मू निवासी नबील अहमद पिछले वर्ष बीएसएफ सहायक कमांडेंट (वर्क्स) की अखिल भारतीय परीक्षा के टॉपर हैं।


उन्होंने कहा है कि उनकी बहन निदा चंडीगढ़ में सिविल इंजीनियरिंग की छात्रा है। वह छात्रावास में रहती है लेकिन अब कॉलेज के अधिकारी उसे कहीं और भेजना चाहते हैं। वानी ने महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी को रविवार को पत्र भेजा है। केंद्रीय मंत्री से उन्होंने बहन के लिए छात्रावास मुहैया कराने का आग्रह किया है।


ग्वालियर के समीप टेकनपुर में बीएसएफ प्रशिक्षण अकादमी से फोन पर वानी ने बताया, 'बहन इस बात को लेकर चिंतित है कि कश्मीरी होने के कारण उसे रहने का ठिकाना नहीं मिलेगा। खास तौर से उसे मेरी पृष्ठभूमि को लेकर डर है। निजी मामले में मैं बीएसएफ को शामिल नहीं करना चाहता। इसीलिए मैंने मंत्री को लिखा है।'


वानी ने कहा कि उन्होंने अपने वरिष्ठ अधिकारियों से बात की है। उन्होंने छुट्टी पर जाने के दौरान अपने कर्मियों से आतंक प्रभावित इलाके में हथियार ले जाने की अनुमति मांगी है।


साथ ही उन्हें घर जाने के क्रम में भी यही सुविधा मिले। उन्होंने बताया कि अगले दो महीनों में वह अपने चचेरे भाई की शादी में भाग लेने के लिए घर जाएंगे।