कांशीराम के खास रहे आरके चौधरी ने थामा सपा का हाथ, BS4 का किया विलय

नई दिल्ली ( 22 दिसंबर ): बहुजन समाज पार्टी से अलग होकर बीएस फोर बनाने वाले बीएसपी के बागी नेता आरके चौधरी शुक्रवार को समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए और अपनी पार्टी समाज स्वाभिमान संघर्ष समिति (बीएस-4) का सपा में विलय कर दिया। 

आपको बता दें कि बीएसपी से बगावत के बाद सियासी ठिकाना तलाश रहे यूपी के पूर्व मंत्री आरके चौधरी समाजवादी पार्टी में शामिल होने की खबरे पिछले कुछ दिनों से चल रही थीं। शुक्रवार को समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के समक्ष आर के चौधरी ने पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। 

पूर्व मंत्री आर के चौधरी समेत पूर्व सासंद और सैंकड़ों की संख्या में बीएस4 के कार्यक्रताओं के साथ अखिलेश यादव की नीतियों में आस्था और विश्वास रखते हुए समाजवादी पार्टी में शामिल हुए हैं। इस मौके पर स्वामी ओमवेश ने भी सपा का दामन थामा।

यूपी के पासी समाज पर मजबूत पकड़ रखने वाले आर के चौधरी ने बहुजन समाज पार्टी से अलग होने के बाद बहुजन समाज स्वाभिमान संघर्ष समिति (बीएस-4) बनाई थी। बीएसपी के संस्थापक स्व. कांशीराम के भरोसेमंद रहे आरके चौधरी लखनऊ, फैजाबाद व इलाहाबाद मंडल में गहरी पकड़ रखते हैं। इनके आने से समाजवादी पार्टी को दलित समाज में गैर जाटव चेहरे का एक बड़ा नेता मिला है।    गौरतलब है कि साल जून 2016 में बीएसपी के राष्ट्रीय महासचिव एवं पूर्व मंत्री आर. के. चौधरी ने बीएसपी प्रमुख मायावती पर विधानसभा चुनाव के टिकट नीलाम करने का आरोप लगाते हुए पार्टी छोड़ दी थी। उस समय चौधरी ने लखनऊ में प्रेस कांफ्रेंस में आरोप लगाया था कि मायावती ने बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर और बसपा संस्थापक कांशीराम के आदर्शो से किनारा कर लिया है और वह सिर्फ दौलत कमाने में लग गयी हैं।