चुनाव जीतने का खामियाजा बेटी से बलात्कार

नई दिल्ली (12 जनवरी): यूपी के मिर्जापुर में एक विधवा को बीडीसी का चुनाव जीतना भारी पड़ गया है। हारे हुए उम्मीदवार के भाई ने विधवा की बेटी से बलात्कार किया। पुलिस ने बलात्कार का मुकदमा दर्ज करने से इंकार कर दिया। बलात्कारियों की बेशर्मी से त्रस्त बलात्कार की शिकार लड़की ने आत्महत्या कर ली और अब बेसहारा विधवा बीडीसी मेम्बर ने खुद को घर की चार दीवारी में बंद कर लिया है। बलात्कारी खुलेआम घूम रहे हैं। बताया जाता है कि वो सत्तापक्ष के करीबी हैं। जिला मुख्यालय मिर्जापुर से लगभग 25 किलोमीटर दूर शिवगढ में हुई इस घटना पर शासन-प्रशासन ने गौर नहीं किया है। लोग कहते हैं कि बलात्कारियों ने विधवा को चुनाव से पहले धमकी भी दी थी। उसे शायद यह सोचा था कि चुनाव जीतने के बाद वो ताकतवर हो जायेगी। जनप्रतिनिधि होने के नाते शासन-प्रशासन में उसकी आवाज सुनी जा सकेगी। वो अपनी बेटी को पढ़ा लिखा कर काबिल बनायेगी और मानसिक विक्षिप्त बेटे का इलाज भी करावा लेगी। लेकिन चुनाव जीतने के बाद उसके दिन और भी खराब हो गये।