ब्रसेल्स फिदाईन हमलावर का भाई बना यूरोप का ताइक्वांडो चैंपियन, जायेगा रियो ओलंपिक

नई दिल्ली (21 मई): ब्रसेल्स के हवाई अड्डे और मेट्रो स्टेशन पर फिदायीन हमला करने वाले आतंकी का सगा भाई मुराद लाचरूई रियो ओलंपिक का टिकट हासिल कर लिया है। मुराद ने यूरोपियन ताइक्वांडो चैंपियनशिप में बेल्जियम के लिए गोल्ड मैडल जीत कर यह उपलब्धि हासिल की है। मुराद का बड़ा भाई नाज़िम उन दो फिदायीन हमलावरों में से एक था जिसने 22 मार्च को ब्रसेल्स एयरपोर्ट पर आतंकी हमला किया था। जिसमें 32 निर्दोष लोग मारे गये थे।

इक्कीस साल के मुराद ने रियो ओलंपिक में हिस्सा लेने जा रहे बेल्जियम के 185 सदस्यीय दल में जगह पायी है। वो अंडर 58 किलोग्राम वज़न वर्ग की ताइक्वांडो प्रतिस्पर्द्धा में हिस्सा लेगा। बीते रोज स्विटज़रलैण्ड के मॉनट्रीक्स में 54 किलोग्राम वर्ग की प्रतिस्पर्द्धा में  गोल्ड मैडल जीतने पर फ्लेमिश ताइक्वांडो फेडरेशन ने उसे 'लाइटवेट्स में यूरोप का बादशाह' (यूरोप'स किंग ऑफ फ्लेमिश ताइक्वांडो फेडरेशन) के खिताब से भी नवाज़ा है।

ब्रसेल्स एयरपोर्ट पर हमले के दो दिन बाद मुराद ने एक प्रेस कॉनफ्रेंस में कहा था कि 2013 में सीरिया जाने से पहले उसका भाई बहुत अच्छे व्यवहार वाला और बुद्धिमान था। रेडिकलाइज होने से पहले उसमें हैवानियत के लक्षण नहीं थे। सीरिया का दुर्दांत आतंकी बने नाज़िम इलेक्ट्रोमैकेनिक्स में डिग्री होल्डर था। ऐसा माना जाता है कि नवम्बर 2015 के पेरिस के फिदायीनों के लिए सुसाइड बेल्ट भी नाजिम ने ही बनायी थी।