'Terrorist' या 'Terraced' हाउस : ब्रिटिश पुलिस ने की 10 साल के बच्चे से पूछताछ

नई दिल्ली (20 जनवरी) :  ब्रिटिश पुलिस ने 10 साल के एक मुस्लिम छात्र से पूछताछ की है। इस छात्र की खता थी तो इतनी कि उसने अंग्रेज़ी की क्लास में ये लिख दिया था कि वो 'टेररिस्ट' (Terrorist) हाउस में रहता है। दरअसल ये छात्र टेरेस्ड (Terraced) हाउस लिखना चाहता था लेकिन स्पेलिंग की ग़लती की वजह से 'टेररिस्ट' लिख गया।

ब्रिटेन में इस मामले ने तूल पकड़ लिया है। इस मुद्दे पर छात्र के परिवार का कहना है कि ब्रिटिश पुलिस को पूछताछ के लिए माफ़ी मांगनी चाहिए।  

बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक बच्चे से लंकाशायर स्थित उसके घर पर 7 दिसंबर को पूछताछ की गई। यहीं नहीं पुलिस ने परिवार के कम्प्यूटर को भी खंगाला। बता दें कि इस साल जुलाई से ब्रिटेन के टीचर्स को क़ानूनी तौर पर बाध्य कर दिया गया है कि छात्रों की ओर से कोई भी संदिग्ध गतिविधि दिखने पर पुलिस या स्थानीय प्रशासन को उसकी जानकारी दें।

छात्र की चचेरी बहन ने कहा कि कोई वयस्क हो तो ये बात समझी जा सकती है, लेकिन एक छोटे बच्चे के साथ ऐसा नहीं किया जा सकता। अगर टीचर को कोई चिंता होनी चाहिए थी तो वो ये कि बच्चे की स्पेलिंग को कैसे ठीक कराया जाए। अब वो अपनी सोच का इस्तेमाल कर लिखने से ही डर रहा है।  

ब्रिटेन में टेरेस्ड प्रॉपर्टी उस टाउनहाउस को कहा जाता है जिसकी साइड की दीवारें दूसरे घरों के साथ शेयर की जाती हैं। मुस्लिम काउंसिल ऑफ ब्रिटेन के असिस्टेंट सेक्रेटरी जनरल मिकदाद वेरसी ने कहा, ये बहुत चिंता की बात है कि लोग अपने नियमित काम पर जाते हैं और उन्हें सुरक्षा के लेंस से देखा जाता है। छात्रों को प्रभावी आतंकी की तरह देखा जाता है।   

उधर, लंकाशायर पुलिस ने कहा है कि मुद्दे को सोशल सर्विसेज़ के पुलिस कांस्टेबल ने डील किया। इसमें आतंकवाद विरोधी सेल का कोई व्यक्ति शामिल नहीं हुआ था।