लड़के ने किया शादी से इंकार तो बारात लेकर लड़की पहुंची ससुराल

नई दिल्ली (16 नवंबर):  बिहार के चंपारण में एक लड़के ने शादी से इंकार किया लड़की उसके घर बारात लेकर पहुंच गई। मामला बेरिया कस्‍बे का है। लड़‍की को परिवार के साथ आता देख लड़के वालों ने घर छोड़ने में ही भलाई समझी। अब लड़की अपने परिवार वालों के साथ लड़के के घर के बाहर धरने पर बैठ गई है।

हरसिद्धि थाने के धनखैरटिया गांव के लालबहादुर साहनी की बेटी गीता की शादी पश्चिमी चंपारण के बैरिया थानांंतर्गत तिलंगहीं गांव के केदार चौधरी के बेटे दीपक के साथ तय हुई थी। शादी की सारी तैयारियां हो चुकी थीं, मगर ऐन मौके पर लड़के वालों ने शादी से इंकार कर दिया। इससे गीता भड़क गईं और परिवार को साथ लेकर दीपक के घर बारात लेकर पहुंच गई। मगर घर पर दीपक मौजूद नहीं था।

गीता अपने परिवार के साथ ही दीपक के घर के बाहर धरने पर बैठ गई है और कहती हैं कि बिना शादी के वापस नहीं जाएगी। गीता ने बताया कि उसके भाई की शादी दीपक की बहन से हुई है, जो लुधियाना में रहता था। वहीं से दीपक उसके घर अक्सर फोन किया करता था। गीता के अनुसार, ”वो मुझसे शादी करना चाहता था। मेरी ओर से शादी से इंकार करने पर दीपक आत्महत्या कर लेने की धमकी दिया करता था।”

गीता का कहना है कि वह मजबूरी में उससे शादी करने के लिए तैयार हो गईं। गीता के मुताबिक दीपक के साथ उसका रिश्‍ता करीब 10 साल पुराना है। गीता के मुताबिक, दीपक ने उसे अपनी पत्‍नी बताकर जीवन बीमा कराया और आधार कार्ड भी बनवा रखा है। गीता ने दीपक पर शारीरिक संबंध बनाकर शादी से मुकर जाने का आरोप लगाया है। उसका कहना है कि वे दोनों पति-पत्नी की तरह रहा करते थे।

दीपक को पति मानकर गीता ने अपने हाथों पर उसके नाम का गोदना भी गुदवा लिया था। लेकिन कुछ दिनों बाद दीपक बदल गया। उसने शादी से इंकार कर दिया। गीता के मुताबिक, मामला पंचायत पहुंचा तो पंचायत ने तय किया कि ‘2 लाख 20 हजार रुपए देकर हम दोनों शादी कर सकते हैं।’ पंचायत ने शादी के लिए 16 नवंबर की तारीख भी तय कर दी थी।